दिग्विजय सिंह बोले- कभी ‘हिंदू आतंकवाद’ नहीं कहा, सिर्फ ‘संघी आतंकवाद’ कहा

दिग्विजय सिंह ने कहा, ‘मैंने सिर्फ संघी आतंकवाद कहा है जो आज भी कहता हूं, कोई मुझे क्लिप दिखा दे, क्योंकि हिन्दू आतंकवाद कभी नहीं कहा.

दिग्विजय सिंह बोले- कभी ‘हिंदू आतंकवाद’ नहीं कहा, सिर्फ ‘संघी आतंकवाद’ कहा
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह (फाइल फोटो)

सीहोर, (मप्र): समझौता एक्सप्रेस बम ब्लास्ट के आरोप से 20 मार्च को बरी हुए स्वामी असीमानंद और तीन अन्य का नाम लिये बगैर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने शुक्रवार को कहा कि अभियोजन और बचाव पक्ष एक साथ होने से जो लोग पकड़े गए, वह अब छूट रहे हैं. इसके साथ ही दिग्विजय सिंह ने दावा किया कि उन्होंने कभी हिन्दू आतंकवाद नहीं बल्कि सिर्फ ‘संघी आतंकवाद’ शब्द कहा था, जिस पर वह आज भी कायम हैं.

भोपाल लोकसभा सीट से कांग्रेस के उम्मीदवार सिंह दिग्विजय सिंह ने कहा, ‘मैंने सिर्फ संघी आतंकवाद कहा है जो आज भी कहता हूं, कोई मुझे क्लिप दिखा दे, क्योंकि हिन्दू आतंकवाद कभी नहीं कहा. जो लोग पकड़े गए और अब छूट रहे हैं, क्योंकि प्रासिक्यूशन और डिफेंस एक साथ हैं.’

'चुनाव जीतने के लिए नरेंद्र मोदी कुछ भी कर सकते हैं' 
दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया कि चुनाव जीतने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुछ भी कर सकते हैं. उन्होने कहा, ‘मैं कभी पाकिस्तान नहीं गया, नरेन्द्र मोदी गए हैं पाकिस्तान. नरेन्द्र मोदी वहां के पीएम से गले मिले, शादी में गए, पाक की जांच एजेंसी आईएसआई को जांच के लिये पठानकोट बुलाया. एक ओर तो पाक का विरोध करवाते हैं, दूसरी और पाक को चिठ्ठी लिखवाते हैं. चुनाव जीतने के लिये नरेन्द्र मोदी कुछ भी कर सकते हैं, नरेन्द्र मोदी अपने गिरेबान में देखें, आतंकवाद से समझौता किसने किया. भाजपा सरकार ने आतंकी मसूद अजहर को छोड़ा. कांग्रेस ने तो हमेशा शहादत दी है.’

प्रधानमंत्री मोदी के इस बयान कि भाजपा के सामने कोई नहीं है और लोकसभा चुनाव में भाजपा 300 सीटें जीतेगी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि जब विपक्ष समाप्त हो जाता है तो प्रजातंत्र समाप्त हो जाता है. यह उनकी हिटलरी मनोवृत्ति है, जो मूलरुप से प्रजातंत्र की विरोधी है.

दिग्विजय ने शिवराज सिंह चौहान पर साधा निशाना
मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर भ्रष्टाचार के अपने आरोप दोहराते हुए उन्होंने कहा कि चौहान के रिश्तेदार रेत के अवैध खनन में लगे हुए थे और इसका हिस्सा चौहान के परिवार को जाता था.

भोपाल लोकसभा सीट को भाजपा का गढ़ माना जाता है और तीन दशक से भाजपा यहां से लगातार जीत रही है. कांग्रेस ने इस बार भाजपा से यह सीट हथियाने के लिये अपने वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को उम्मीदवार बनाया है वहीं दिग्वियजय की उम्मीदवारी के बाद भाजपा ने फिलहाल अपना उम्मीदवार घोषित नहीं किया है.