close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

यहां पोर्टेबल चायनीज मशीन से किया जा रहा था लिंग परीक्षण, ऐसे हुआ काले धंधे का पर्दाफाश

जिसमें एसडीएम जयति सिंह की अगुवाई में पुलिस, स्वास्थ्य विभाग, महिला बाल विकास विभाग ने सम्मिलित रूप से लिंग परीक्षण की शिकायत पर कार्रवाई की. जिसमें लिंग परीक्षण करने की मशीन और मोबाइल को जप्त किया गया है.

यहां पोर्टेबल चायनीज मशीन से किया जा रहा था लिंग परीक्षण, ऐसे हुआ काले धंधे का पर्दाफाश
पोर्टेबल चाइनीज मशीन से हो रहा था लिंग परीक्षण

ग्वालियरः मध्य प्रदेश के ग्वालियर में पोर्टेबल चाइनीज मशीन से  लिंग परीक्षण किए जाने के मामले में ग्वालियर संभाग आयुक्त ने जिले के सभी कलेक्टर को सर्कुलर जारी कर दिया है. जिसके बाद अब महिला बाल विकास के साथ मिलकर कलेक्टर के निर्देश पर एक अलग टीम का गठन किया जाएगा जो इस तरह की गतिविधियों पर पैनी निगाह रख कार्रवाई को अंजाम देगी.

दअरसल, ग्वालियर के मुरार क्षेत्र में गोपनीय सूचना के आधार पर जिला प्रशासन की ओर से PCPNDT के तहत कार्रवाई की गई. जिसमें एसडीएम जयति सिंह की अगुवाई में पुलिस, स्वास्थ्य विभाग, महिला बाल विकास विभाग ने सम्मिलित रूप से लिंग परीक्षण की शिकायत पर कार्रवाई की. जिसमें लिंग परीक्षण करने की मशीन और मोबाइल को जप्त किया गया है. वहीं अमले के पहुचंने से पहले ही डॉक्टर, कंपाउंडर और मकान मालिक फरार हो चुके थे.

देखें LIVE TV

मामला सीपी कॉलोनी का है, जहां एक मकान में यह काला खेल चल रहा था. जिसमें छापे के समय प्रकरण में कथित तौर पर संलिप्त एक नाबालिक बालिका मिली, जिसे अभिरक्षा मे लेकर बालिका गृह में रखा गया. पार्वती सरल नाम की महिला भवन मालिक है. यहां चायनीज पोर्टेबल मशीन से अवैध कारोबार किया जा रहा था. बता दें PCPNDT एक्ट के तहत ऐसी मशीनें और उसे लगाने का स्थान पंजीकरण और अनुमति कलेक्टर से लेना अनिवार्य है.

ग्वालियरः रेप पीड़िता पर बना रहे थे 'राजीनामे' का दबाव, परेशान होकर दे दी जान

बता दें कि मुरार क्षेत्र में यह तीसरा मामला है, जब इस तरह की गतिविधियां सामने आई है. बहरहाल घर के अंदर लिंग परीक्षण किए जाने के मामले के खुलासे के बाद अब संभाग आयुक्त की ओर से सख्त निर्देश जारी किए जा चुके हैं. ऐसे में यह कयास लगाया जा सकता है कि आने वाले दिनों में संभाग भर के अंदर प्रशासनिक अमले की ओर से बड़ी कार्रवाई की जा सकती है.