मेडिकल में एडमिशन की धोखाधड़ी का पर्दाफाश: कोचिंग से कराते थे पेपर लीक, ऐसे चढ़े हत्थे

आरोपी मध्य प्रदेश के अलावा छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, गुजरात, हरियाणा, तमिलनाडु में भी छात्रों से ठगी करते थे. पुलिस ने आरोपियों के पास से लैपटॉप, मोबाइल, कीपेड, मेडिकल में एडमिशन कराने संबंधी दस्तावेज, सीपीयू व अन्य सामान बरामद किया है.

मेडिकल में एडमिशन की धोखाधड़ी का पर्दाफाश: कोचिंग से कराते थे पेपर लीक, ऐसे चढ़े हत्थे
सांकेतिक तस्वीर

इंदौर: इंदौर के मेडिकल कॉलेज में एडमिशन के नाम पर करोड़ों की धोखधड़ी सामने आई है. एसटीएफ ने इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. इन्होंने 10 साल में 7 राज्यों से सैकड़ों बच्चों से ठगी कर करोड़ों का फायदा कमाया है. ये लोग कोचिंग के डेटा चोरी कर नीट की परीक्षा के लिए प्रश्न बताने का बोलकर छात्रों को अपना निशाना बनाते थे. आरोपियों के बैंक खातों में 5.50 करोड़ से ज्यादा का ट्रांजेक्शन किया गया है. इस मामले में कई कोचिंग और मेडिकल कॉलेज के संचालक भी संदेह के घेरे में हैं.

ये भी पढ़ें-शिवराज सरकार राज्यकर्मियों को दे सकती है डबल तोहफा, सैलरी में होगी इतने प्रतिशत की बढ़ोतरी

जानकारी के मुताबिक आरोपी मध्य प्रदेश के अलावा छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, गुजरात, हरियाणा, तमिलनाडु में भी छात्रों से ठगी करते थे. पुलिस ने आरोपियों के पास से लैपटॉप, मोबाइल, कीपेड, मेडिकल में एडमिशन कराने संबंधी दस्तावेज, सीपीयू व अन्य सामान बरामद किया है. पुलिस को शिकायत मिली थी कि आरोपियों ने उनसे फोन पर संपर्क कर उनके बच्चों का एडमिशन नीट में कराने के लिए कहा था.

ये भी पढ़ें-थ्री इडियट के रेंचो जैसा कारनामा, वीडियो कॉलिंग की मदद से चलती ट्रेन में करवाई महिला की डिलिवरी

फिर वे लोग इंदौर स्थित एक ऑफिस में ले जाकर नीट के 70 से 80 प्रश्नों की जानकारी देकर शासकीय कॉलेज में एडमिशन करवाने का बोलकर रुपए लिया करते थे. पुलिस का कहना है कि दोनों आरोपियों ने लोगों से रुपए ऐंठने की बात कबूल की है. जिस आरोपी के खाते में लोगों से ठगे हुए पैसे डाले गए थे, उसे भी फ्रीज करवाया गया है.

एसपी ने जानकारी देते हुए बताया कि इंदौर के अजय कुमार जैन ने जनवरी 2018 में शिकायत की थी कि आरोपियों ने उनकी बेटी का नीट में एडमिशन कराने के लिए 20 लाख रुपए मांगे थे. जिसपर अजय ने उन्हें 11 लाख 50 हजार खाते में और 8 लाख नकद दे दिए थे.

Watch LIVE TV-