मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 : महिला नेता ने दिया BJP को एक और झटका, इस्तीफा देकर लड़ेंगी निर्दलीय चुनाव

राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त गंगा उइके को इस बार टिकट मिलने की उम्मीद थी, लेकिन उन्हें टिकट नहीं मिला. वह इस बात से नाराज बताई जा रही थीं. रविवार की शाम उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से भी मुलाकात की थी. लेकिन बात नहीं बनी.

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 : महिला नेता ने दिया BJP को एक और झटका, इस्तीफा देकर लड़ेंगी निर्दलीय चुनाव

भोपाल : मप्र में होने जा रहे विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी में उफनती बगावत थमने का नाम नहीं ले रही है. बाबू लाल गौर, सरताज सिंह के बाद अब एक और नेता ने सत्तारूढ़ दल को झटका दिया है. राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त गंगा बाई उइके ने बीजेपी से इस्तीफा दे दिया है. इसके साथ ही उन्होंने बैतूल जिले की घोड़ाडोंगरी सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ने का किया ऐलान भी कर दिया है. राज्य महिला आयोग की सदस्य गंगा उईके पूर्व विधायक की पत्नी हैं.

बीजेपी ने इस बार अपने कई विधायकों और मंत्रियों का टिकट काट दिया है. गंगा उइके को इस बार टिकट मिलने की उम्मीद थी, लेकिन उन्हें टिकट नहीं मिला. वह इस बात से नाराज बताई जा रही थीं. रविवार की शाम उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से भी मुलाकात की थी. लेकिन बात नहीं बनी. अब उन्होंने ऐलान किया है कि वह निर्दलीय के तौर पर पर्चा भरेंगीं.

बाबूलाल गौर की बहू भी दे चुकी हैं धमकी
मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर की बहू और महापौर कृष्णा गौर ने गोविंदपुरा विधानसभा क्षेत्र से हर हाल में चुनाव लड़ने की बात कही है. कृष्णा गौर के मुताबिक 'परिवारवाद को लेकर जो सवाल उठाए जा रहे हैं उससे मेरा मन बहुत आहत है. मैंने और मेरे परिवार ने हमेशा ही संगठन के लिए काम किया है, लेकिन अब परिवारवाद की बात की जा रही है. जब अन्य नेता-मंत्रियों के परिवार और रिश्तेदारों को टिकट दी जा रही है तो मेरे साथ भेदभाव क्यूं ? गोविंदपुरा से मेरे परिवार का बरसों पुराना नाता रहा है, इसलिए मैं किसी भी हालत में गोविंदपुरा से चुनाव लड़ूंगी.'