1 लाख की रिश्वत लेते बिजली विभाग का इंजीनियर गिरफ्तार, लोकायुक्त की टीम ने इस तरह पकड़ा

लोकायुक्त की टीम ने इंजीनियर को एक लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए पकड़ा है. 

1 लाख की रिश्वत लेते बिजली विभाग का इंजीनियर गिरफ्तार, लोकायुक्त की टीम ने इस तरह पकड़ा
इंजीनियर को लोकायुक्त की टीम ने पकड़ा

भोपालः मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में लोकायुक्त ने बड़ी कार्रवाई की. लोकायुक्त की टीम ने सतपुड़ा भवन के गेट पर एक लाख की रिश्वत लेते सुप्रिडेंट इंजीनियर को रंगे हाथों गिरफ्तार किया है.  रिश्वत लते हुए पकड़े गए इंजीनियर का नाम एपीएस जादौन बताया जा रहा है. 

यह है मामला 
दरअसल, कंपनी की कर्मचारी अस्मिता पाठक ने लोकायुक्त अधीक्षक को शिकायत करते हुए बताया था कि वह दर्श रिन्युअल प्रालि के लिए ऊर्जा सलाहकार के तौर पर का करती है. मध्य प्रदेश के सिंगरौली में कंपनी का 25 मेगावाट सौर ऊर्जा प्रोजेक्ट के चार्जिंग जारी है. इसी काम से संबंधित कंपनी के बकाया बिल की स्वीकृति कराने के बदले बिजली विभाग के इंजीनियर एपीएस जादौन ने 15 लाख रुपए की रिश्वत की मांग की थी. जिसमें उसने पहली किश्त के रूप में एक लाख रुपए मांगे थे. 

जिसके बाद लोकायुक्त की टीम एक्शन में आई. अस्मिता पाठक सतपुड़ा भवन इंजीनियर के पास एक लाख रुपए की राशि लेकर पहुंची. इंजीनियर ने यह पैसा अपने सरकारी वाहन में रखवाने को कहा और वह अस्मिता पाठक को अपने साथ नीचे गेट तक ले गया. जिसके बाद इंजीनियर ने अस्मिता पाठक के हाथ से ही रिश्वत के एक लाख रुपए अपनी कार में रखवाए. इसके बाद इंजीनियर ने काफी देर तक यहां वहां घूमकर इस बात का निरीक्षण किया कि कोई उसे देख तो नहीं रहा है. 

इस तरह चढ़ा लोकायुक्त टीम के हाथ 
जब इस बात का अंदाजा हो गया कि कोई उसे नहीं देख रहा है तो वह कार में बैठकर जाने लगा. जैसे ही वह जाने लगा तो इसी दौरान लोकायुक्त उप पुलिस अधीक्षक सलिल शर्मा और उनकी टीम ने इंजीनियर एपीएस जादौन को पकड़ लिया. जिसके बाद उस पर मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी गई है. 

बताया जा रहा है कि ऊर्जा विभाग में पदस्थ यह इंजीनियर हरियाणा के गुरुग्राम का रहने वाला है. लोकायुक्त की टीम ने बताया कि चार्जिंग व विद्युत ठेकेदारी का लाइसेंस जारी करने के बदले उसने 15 लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी. पैसे नहीं देने पर लाइसेंस की प्रक्रिया में देरी कर रहा था. जिसके बाद महिला कर्मचारी ने इंजीनियर से बात की तो उसने रिश्वत की मांग की थी जिसकी शिकायत महिला ने लोकायुक्त में कर दी. फिलहाल लोकायुक्त की टीम मामले की जांच जुटी है.

ये भी पढ़ेंः अब सीएम हेल्पलाइन में शिकायत करना भी हुआ मुश्किल! CMO ने जेल में डालने की दी धमकी

WATCH LIVE TV