छत्तीसगढ़: मासूम से दुष्कर्म के आरोपी को गुस्साई भीड़ ने कोर्ट में जमकर पीटा

बिलासपुर में जैसे ही दुष्कर्म के आरोपी को पुलिस कोर्ट लेकर पहुंची, तो पीड़िता के परिजनों और स्थानीय लोगों ने उसे घेर लिया और पिटाई कर दी. पुलिस आरोपी को जैसे-तैसे भीड़ के चंबुल से बचाकर निकली.

छत्तीसगढ़: मासूम से दुष्कर्म के आरोपी को गुस्साई भीड़ ने कोर्ट में जमकर पीटा
पुलिस आरोपी को जैसे-तैसे भीड़ के चंगुल से बचाकर निकली.

बिलासपुर: मासूम बच्चियों के साथ हो रही दुष्कर्म की घटनाओं से देश में उबाल है. सवाल पूछे जा रहे हैं कि आखिर देश में बच्चियां कब सुरक्षित होंगी ? हर तरफ से दुष्कर्म के आरोपियों पर सख्त से सख्त कार्रवाई की मांग हो रही है. ऐसे में बिलासपुर में जैसे ही दुष्कर्म के आरोपी को पुलिस कोर्ट लेकर पहुंची, तो पीड़िता के परिजनों और स्थानीय लोगों ने उसे घेर लिया और पिटाई कर दी. पुलिस आरोपी को जैसे-तैसे भीड़ के चंगुल से बचाकर निकली.

बता दें कि हाल ही में छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के बिलासपुर (Bilaspur) में एक 8 साल की मासूम से चाकू की नोक पर दुष्कर्म का मामला सामने आया था. हालांकि, पुलिस ने मामले पर तुरंत एक्शन लेते हुए आरोपी को गिरफ्तार भी कर लिया था. घटना बीते 4 दिसंबर की है. जहां, सरकंडा इलाके में नाना-नानी के साथ रह रही बच्ची को घर में अकेला पाकर आरोपी ने अपनी हवस का शिकार बनाया. आरोपी का नाम भोलाराम साहू बताया जा रहा है.

जानकारी के मुताबिक वारदात के वक्त बच्ची के नाना नानी मजदूरी पर गए हुए थे. वहीं बच्ची तबियत खराब होने की वजह से घर पर आकेली थी. दोपहर को जब बच्ची की नानी घर लौटी, तो देखा कि मासूम रो रही है. कारण पूछने पर उसने बताया कि पड़ोस में रहने वाला भोलाराम साहू उनके घर आया था. रो-रोकर बच्ची ने बताया कि चाकू दिखाकर आरोपी ने जान से मारने की धमकी देते हुए कपड़े उतरवाए और फिर उसके साथ अनाचार किया.

बच्ची से दुष्कर्म के बाद आरोपी चाकू मौके पर छोड़कर भाग गया. वहीं घटना की जानकारी लगते ही आसपास के लोगों ने साथ मिलकर भोला साहू की तलाश शुरू कर दी. लेकिन, आरोपी नहीं मिला. जिसके बाद शिकायत के आधार पर सरकंडा पुलिस ने बलात्कार और पाक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर आरोपी की तलाश शुरू की और मोबाइल लोकेशन के आधार पर कवर्धा से आरोपी को धरदबोचा. 

वहीं, इससे पहले बड़ी संख्या में ग्रामवासी जिला कोर्ट और कलेक्ट्रेट कार्यालय पहुंचे और आरोपी को फांसी की सजा दिए जाने की मांग की. लोगों ने बताया कि आरोपी भोलाराम साहू इससे पहले भी 2 मामलों में जेल जा चुका है. ऐसे आदतन अपराधी को फांसी से कम सजा नहीं होनी चाहिए.