PHOTOS: सोशल मीडिया पर कोरोना से जुड़ी इन 7 झूठी तस्वीरों से रहें सावधान, जानिए क्या है सच्चाई

सोशल मीडिया पर कोरोना वायरस से जुड़ी कुछ तस्वीरें वायरल करके झूठे दावे किए जा रहे हैं.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Mar 26, 2020, 13:17 PM IST

नई दिल्ली: एक तरफ जब भारत के लोग कोरोना वायरस (Coronavirus) को रोकने के लिए लड़ रहे हैं. लॉकडाउन का पालन कर रहे हैं, उसी समय सोशल मीडिया पर कोरोना वायरस से जुड़ी कुछ तस्वीरें वायरल करके झूठे दावे किए जा रहे हैं. देखिए वायरल हो रही इन तस्वीरों की सच्चाई क्या है.

1/7

कोविड-19 की दवा

Corona Medicine

दावा - कोविड-19 की दवाई मिल गई है.

सच्चाई - ये कोरोना की दवा नहीं है, जांच किट है.

2/7

डॉक्टर पति-पत्नी की मौत

Doctor couple

दावा - एक कपल जिन्होंने 134 कोरोना के पीड़ितों का इलाज करने के बाद संक्रमण का शिकार हो गए.

सच्चाई - ये तस्वीर किसी डॉक्टर कपल की नहीं है. ये फोटो एयरपोर्ट पर एक जोड़े की है.

3/7

कई लाशों वाली इटली शहर की तस्वीर

Deadbodies on the road in Italy

दावा- इटली में कोरोना वायरस की बीमारी से मरे लोगों की लाशें सड़कों पर पड़ी हैं. कोरोना के संक्रमण के खौफ से बचने के लिए परिवार के लोग अंतिम संस्कार नहीं कर रहे है.

सच्चाई - ये फोटो 2011 में रिलीज हुए एक इंग्लिश फिल्म कांटेजिअन का सीन है.

4/7

रूस में सड़क पर 500 शेर

500 Lions on roads in Russia

दावा - रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने लॉकडाउन करने के लिए सड़कों पर 500 शेर छोड़ने का आदेश दिया है.

सच्चाई - ये फोटो एक फिल्म का सीन है.

5/7

जंतु विज्ञान की किताब में कोरोना का इलाज

Ramesh Gupta's Book

दावा - डॉक्टर रमेश गुप्ता की किताब जंतु विज्ञान में कोरोना का इलाज है.

सच्चाई - ये झूठ है.

6/7

498/- का जियो का फ्री रीचार्ज

Jio Free recharge

दावा - कोरोना वायरस के मुश्किल समय को देखते हुए जियो कंपनी अपने यूजर्स को 498/- रुपये फ्री रीचार्ज दे रही है.

सच्चाई - जियो कंपनी ने ऐसा कोई दावा नहीं किया है.

7/7

इटली की ताबूत वाली तस्वीर

Coffin in Italy

दावा- इटली में कोरोना से मरने वालों की लाश बहुत सारे ताबूतों में रखी गई है. इन्हें परिवार वाले लेने नहीं आ रहे हैं.

सच्चाई - यह फोटो 7 साल पुराने एक हादसे की तस्वीर है, कोरोना से इसका कोई संबंध नहीं है.