CM गहलोत की क्लास में 26 कलेक्टर फेल, जयपुर और भरतपुर की हालत सबसे खराब

सीएमओ मीटिंग में जयपुर, कोटा, नागौर, बीकानेर, जालोर, जोधपुर, भरतपुर, पाली जिलों की परफॉर्मेंस कमजोर रही, इन जिलों की शिकायतें ज्यादा रही. वहीं भरतपुर और जयपुर की रिपोर्ट सबसे खराब रही.

CM गहलोत की क्लास में 26 कलेक्टर फेल, जयपुर और भरतपुर की हालत सबसे खराब
योजनाओं का फीडबैक लेकर सीएम कहा कि इनमें ढिलाई बर्दाश्त नहीं की जाएगी.

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने आज सीएमओ से जिला कलेक्टर के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संवाद किया. इस दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने सरकार की फ्लैगशिप योजनाओं में फिसड्डी रहने वाले जिला कलेक्टरों को  फटकार लगाते हुए उन्हें सरकार की योजनाओं को तत्काल रुप से लागू करने के निर्देश दिए. 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कमजोर प्रदर्शन वाले 26 जिला कलेक्टर्स के रवैये पर नाराजगी जताई. साथ ही इन जिलों में शिकायत निस्तारण में सुधार की नसीहत दी. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कहा कि जन शिकायत निवारण में देर न हो, इसके लिए या तो उनके पास जो परिवादी आए और वे जो निर्देश दें उस पर तुरंत कार्रवाई हो या उसे बताया जाए कि काम क्यों नहीं हो सकता? 

सीएमओ मीटिंग में जयपुर, कोटा, नागौर, बीकानेर, जालोर, जोधपुर, भरतपुर, पाली जिलों की परफॉर्मेंस कमजोर रही, इन जिलों की शिकायतें ज्यादा रही. वहीं भरतपुर और जयपुर की रिपोर्ट सबसे खराब रही. इन सात जिलों की वीसी में परफॉर्मेंस अच्छी रही. ये हैं- प्रतापगढ़, डूंगरपुर, बांसवाड़ा, धौलपुर, चूरू, बाड़मेर, सिरोही आदि.  

बर्दाश्त नहीं की जाएगी ढिलाई
इन योजनाओं का फीडबैक लेकर कहा कि इनमें ढिलाई बर्दाश्त नहीं की जाएगी. मुख्यमंत्री ने वीसी में पेंशन, पालनहार, मुफ्त दवा योजना, ई डब्ल्यूएस आरक्षण, संपर्क पोर्टल सीएम जनसुनवाई, एक रुपये किलो गेहूं योजना में 26 जिलों के कलेक्टर्स को सुधार के निर्देश दिए.

जांच में समय नहीं गंवाया जाए
सीएम गहलोत ने वीसी में 65 बिंदुओं पर चर्चा की. वीसी में सर्विस डिलीवरी पर जोर देते हुए मापदंडों पर खरा नहीं उतरने वाले कलेक्टर्स को फटकार मिली. सीएम गहलोत ने वीसी में कहा कि निशुल्क दवा योजना में अनुपलब्धता का कोई शब्द नहीं होना चाहिए और दवाइयों का एडवांस स्टॉक रहना चाहिए ताकि जरूरतमंद को तुरंत दवा मिल सके. सीएम ने कहा पात्र और अपात्र कौन हैं, इसकी जांच में समय नहीं गंवाया जाए. सीएम ने कहा कि पेंशन और नरेगा में बजट की कोई कमीं नही है. 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने वीडियो कॉन्फ्रेंस में सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं को लागू करने में रुचि नहीं दिखाने पर हिंडोन एसडीएम सुरेश यादव को भी सस्पेंड करने के निर्देश दिए. साथ ही उन्होंने अन्य अधिकारियों को भी निर्देश दिए कि सरकार आम जनता को सुशासन देना चाहती है और उसमें आप सब अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएं.