close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बांसवाडा: कनिष्ठ लिपिक भर्ती मामले में ACB ने की कार्रवाई, प्रकरण दर्ज

इस संबंध में एसीबी प्रभारी ने मीडिया से बातचीत में बताया कि खेमराज गरासीया ने कनिष्ठ लिपीक 2013 की भर्ती प्रकिया में अनियमितता को लेकर शिकायत की थी. 

बांसवाडा: कनिष्ठ लिपिक भर्ती मामले में ACB ने की कार्रवाई, प्रकरण दर्ज
मामले में अनुसंधान शुरू हो चुका है. (प्रतीकात्मक फोटो)

बांसवाडा: जिला परिषद की कनिष्ठ लिपिक भर्ती-2013 में गड़बड़झाले का भांडा फूट गया है. बांसवाडा एसीबी टीम ने मामले में जिला परिषद, बांसवाडा के तत्कालीन लेखाधिकारी एंव नोडल अधिकारी, हाल में कोषाधिकारी रवीन्द्रनाथ पारगी के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया. इसके अलावा मामले में अन्य आरोपियों की मिलीभगत को लेकर अनुसंधान शुरू कर दिया. 

एसीबी ने माना है कि आरोपी ने अपने पद और अधिकारों का दुरुपयोग कर आपराधिक षड़यंत्र रचकर अपने स्तर पर दस्तावेजों का सत्यापन के लिए दल गठित की. इस दौरान अभ्यर्थियों के रिकार्ड का सही सत्यापन नहीं किया. इसके अलावा अपात्र अभ्यर्थियों को पात्रता सूची में शामिल कर उन्हे नियुक्ति दी गई. 

इस संबंध में एसीबी प्रभारी ने मीडिया से बातचीत में बताया कि आठ फरवरी 2017 को आनंदपुरी पंचायत समिती के नाहरपुरा निवासी खेमराज गरासीया ने कनिष्ठ लिपीक 2013 की भर्ती प्रकिया में अनियमितता को लेकर शिकायत की थी. शिकायत के बाद जांच में यह सामने आया कि बांसवाडा जिला परिषद ने 14 फरवरी 2013 को 651 पदों पर सीधी भर्ती के लिए ऑनलाइन आवेदन लिए थे. भर्ती के लिए दस्तावेज जांच सहित अन्य प्रक्रियाओ के लिए लेखाधिकारी पारगी को नोडल अधिकारी नियुक्त किया था. जिसका रिकार्ड प्रभारी तत्कालीन सहायक वन संरक्षक भवदेव सिंह को बनाया गया.

उन्होंने यह भी कहा कि पूरे मामले की जांच की जा रही है. इसके साथ ही आरोपियों पर कार्रवाई की जायेगी.