जयपुर: नहीं ले सकेंगे रूफटॉप रेस्टोरेंट्स का मजा, इस वजह से हो रही कार्रवाई

जयपुर में रूफ टॉप रेस्त्रां संचालकों ने सेंट्रल पार्क से स्टेच्यू सर्किल तक रैली निकाली थी. रेस्टोरेंट संचालकों ने नगर निगम प्रशासन पर रेस्त्रां दोहरा रवैया अपनाने का इल्ज़ाम लगाया. 

जयपुर: नहीं ले सकेंगे रूफटॉप रेस्टोरेंट्स का मजा, इस वजह से हो रही कार्रवाई
प्रतीकात्मक तस्वीर.

रोशन शर्मा, जयपुर: राजधानी में अब अवैध रेस्टोरेंट्स के खिलाफ निगम की कार्रवाई जारी रहेगी. यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने दो टूक जवाब देते हुए कहा है कि अवैध रूफटॉप रेस्टोरेंट्स (Rooftop Restaurants) पर कार्रवाई का सिलसिला बदस्तूर जारी रहेगा. धारीवाल ने कहा कि सरकार जनता के लिए हर वो कदम उठाएगी जो जरूरी है. लोगों की सुरक्षा से किसी भी तरह का समझौता नहीं किया जाएगा.

आपको बता दें कि नियमों में छूट को लेकर रूफटॉप रेस्टोरेंट संचालक यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल से मिले थे. धारीवाल ने कहा कि रेस्टोरेंट्स लगाने के लिए फायर एनओसी लेनी अनिवार्य होगी.

रूफटॉप रेस्त्रां, बार और होटल चलाने वाले कारोबारियों ने मुख्य सचेतक डॉ. महेश जोशी से मुलाकात की और डॉ. जोशी को नगर निगम की सीजिंग की कार्रवाई से निजात दिलाने के लिए ज्ञापन सौंपा.  डॉ. जोशी को संचालकों ने विश्वास दिलाया है कि वो अपने प्रतिष्ठानों में आगंतुकों की सुरक्षा के मद्देनजर सभी शर्तों का पालन करेंगे, जिसके बाद डॉ. जोशी ने उनकी बात यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत तक पहुंचाने का आश्वासन दिया था.

रूफ टॉप रेस्त्रां संचालकों ने निकाली थी रैली
इससे पहले जयपुर में रूफ टॉप रेस्त्रां संचालकों ने सेंट्रल पार्क से स्टेच्यू सर्किल तक रैली निकाली थी. रेस्टोरेंट संचालकों ने नगर निगम प्रशासन पर रेस्त्रां दोहरा रवैया अपनाने का इल्ज़ाम लगाया. पहले कारोबारी अंहिसा सर्किल पर इकट्ठा हुए और फिर वहां से रैली निकाली. 

क्या है पूरा मामला
दरअसल, वेडिंग सीजन को देखते हुए नगर निगम रूफटॉप रेस्टोरेंट्स (Rooftop Restaurants) पर लगातार कार्रवाई कर रहा है. हाल ही में निगम ने चार रेस्टोरेंट्स को सीज कर कार्रवाई की थी, जिसके बाद से रेस्टोरेंट्स मालिकों में हड़कंप मच गया था. इसके बाद से रूफटॉप रेस्टोरेंट्स (Rooftop Restaurants) और बार के मालिक एकजुट हो गए और उल्टा निगम के खिलाफ ही आंदोलन छेड़ दिया. हालांकि इस मामले में राजनीति भी हुई. 

पूर्व मेयर इस पूरे मामले को सील पर डील का खेल करार दिया था. तो वहीं सरकार ने साफ कर दिया है कि लोगों की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. 

Edited by: Krishna Saini, News Desk