जयपुर से लखनऊ की यात्रा अब होगी आसान, ट्रेन में लगेंगे एक्स्ट्रा कोच

पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन ने जयपुर और लखनऊ से चलने वाली जयपुर एक्सप्रेस के वातानुकूलित तृतीय सह द्वितीय श्रेणी में अतिरिक्त कोच लगाने का निर्णय लिया है.

जयपुर से लखनऊ की यात्रा अब होगी आसान, ट्रेन में लगेंगे एक्स्ट्रा कोच
जयपुर एक्सप्रेस में 03 से 31 अगस्त तक लगेंगे एक्स्ट्रा कोच

जयपुर: भारतीय रेलवे के पूर्वोत्तर रेलवे जोन ने कई ट्रेनों में अतिरिक्त कोच लगाने की है. पूर्वोत्तर रेलवे यात्रियों की सुविधा के मद्देनजर लखनऊ से जयपुर तक चलने वाली जयपुर एक्सप्रेस में वातानुकूलित तृतीय सह द्वितीय श्रेणी का एक अतिरिक्त कोच लगाने जा रहा है. यह अतिरिक्त अस्थायी तौर पर करीब एक माह तक लगाया जाएगा. पूर्वात्तर रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी संजय यादव ने बताया कि रेल यात्रियों की सुविधा के लिए पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन ने जयपुर और लखनऊ से चलने वाली जयपुर एक्सप्रेस में वातानुकूलित तृतीय सह द्वितीय श्रेणी का एक अतिरिक्त कोच एक माह के लिए अस्थायी रूप से लगाने का निर्णय लिया है.

उन्होंने बताया कि इस निर्णय के तहत जयपुर जंक्शन से चलने वाली ट्रेन संख्या 19715 जयपुर एक्सप्रेस में 03 से 31 अगस्त तक वातानुकूलित तृतीय सह द्वितीय श्रेणी का एक अतिरिक्त कोच लगाया जाएगा. जबकि लखनऊ जंक्शन से चलने वाली ट्रेन संख्या 19716 जयपुर एक्सप्रेस में वातानुकूलित तृतीय सह द्वितीय श्रेणी का एक अतिरिक्त कोच 04 अगस्त से 01 सितम्बर तक लगाया जाएगा. परिवर्तित संरचना के अनुसार इस अवधि में इस गाड़ी में साधारण श्रेणी के 06, शयनयान श्रेणी के 06, वातानुकूलित तृतीय श्रेणी के 04, वातानुकूलित तृतीय सह द्वितीय श्रेणी के 02, वातानुकूलित द्वितीय श्रेणी का 01 तथा एस.एल.आर./डी. के 02 कोचों सहित कुल 21 कोच लगेंगे. 

गौरतलब है कि पहले भी पूर्वोत्तर रेलवे ने कई ट्रेनों में अतिरिक्त कोच लगाने का निर्णय लिया था. जिसके तहत इन 6 ट्रेनों को शामिल किया गया था. 

-15004 गोरखपुर-कानपुर अनवरगंज चौरी चौरा एक्सप्रेस 

-15003 कानपुर अनवरगंज-गोरखपुर चौरी चौरा एक्सप्रेस

-15022 गोरखपुर-शालीमार एक्सप्रेस

-15021 शालीमार-गोरखपुर एक्सप्रेस 

-15120 मंडुवाडीह-रामेश्वरम एक्सप्रेस 

-15119 रामेश्वरम-मंडुवाडीह एक्सप्रेस 

रेलवे के मुताबिक उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा यात्रा लोग ट्रेन से करते हैं. जिसको मद्देनजर रखते हुए रेलवे ने यह निर्णय लिया ताकि रेल यात्रियों को वेटिंग लिस्ट जैसी समस्याओं का सामना न करना पड़े. 

(इनपुट-आईएएनएस)