अजमेर: कांग्रेस नेता की मनमानी, ट्रैफिक पुलिस के साथ की बदसलूकी

कांग्रेस नेता सौरव बाजाड़ ने गुरुवार को बजरंगगढ़ चौराहे के पास स्थित मॉल के बाहर जमकर उत्पात मचाया

अजमेर: कांग्रेस नेता की मनमानी, ट्रैफिक पुलिस के साथ की बदसलूकी
कांग्रेस नेता ने पुलिसकर्मियों को जमकर धमकाया

अजमेर: राजस्थान में कांग्रेस की सत्ता बनने के साथ ही कांग्रेस के नेताओं पर सत्ता का रंग चढ़ गया है. अजमेर जिले के कांग्रेस नेता सौरव बाजार ने गुरुवार को बजरंगगढ़ चौराहे के पास स्थित मॉल के बाहर जमकर उत्पात मचाया. ट्रैफिक पुलिस के द्वारा की गई कार्रवाई के बाद वह सड़क पर लेट गए और हंगामा करने लगे. मामले की सूचना पर ट्रेफिक डिप्टी नीलिमा चौधरी मौके पर पहुंची तो उन्होंने उनके गार्ड के साथ भी बदसलूकी की और उन्हें देख लेने की धमकी दे दी. 

खबर के मुताबिक मामला बजरंगढ़ स्थित मिराज मॉल के बाहर पार्किंग को लेकर बिगड़ा ट्रैफिक पुलिस द्वारा पार्किंग व्यवस्था सुचारु करने के लिए टू व्हीलर, फोर व्हीलर पर कार्रवाई की जा रही थी. इससे नाराज होकर बोजार ने हंगामा खड़ा कर दिया. पुलिस से बदसलूकी की मामला बढ़ते देख क्रिश्चियन गंज थाना पुलिस मौके पर पहुंची. हालांकि इससे पहले ही वहां मौजूद लोग वहां से चलते बने. बता दें कि कांग्रेस नेता सौरव बोजार कांग्रेस के पुराने नेता हैं साथ ही उनके रिश्तेदार सीएमओ में उच्च अधिकारी पद पर कार्यरत है.

अजमेर ट्रैफिक पुलिस द्वारा ट्रैफिक व्यवस्था को सुचारु करने के लिए लगातार कार्रवाई की जा रही है. इसी के तहत गुरुवार को लोंगिया मे कई वाहनों को जप्त कर कार्यवाही की गई. इसी के तहत वह काफी दिन से मिल रही शिकायत के बाद मिराज मॉल के बाहर पहुंचे जहां से वाहनों को उठाने का कार्य किया गया. 

वहीं इससे नाराज कांग्रेस नेता सौरव बाजार हंगामा खड़ा कर दिया और ट्रैफिक पुलिसकर्मियों को देख लेने की धमकी दी हालांकि पुलिस ने इस कृत्य को गलत बताया और जरूरत पड़ने पर कार्यवाही करने की बात कही है. इससे पहले भी ट्रैफिक पुलिस सीआई सुनीता गुर्जर द्वारा कार्यवाही करने पर बवाल हुआ था.

वहीं मामले के बाद बीजेपी नेताओं ने कहा कि कांग्रेस सरकार बनने के साथ ही कांग्रेस के नेता प्रशासन पर हावी होने का प्रयास कर रहे हैं और सत्ता के नशे में चूर होकर इस तरह की घटनाओं को बेखौफ अंजाम दे रहे हैं. ऐसे में सरकार के सुशासन वाले नारे फीके नजर आ रहे हैं क्योंकि कार्यकर्ता अपने आप को ही मंत्री से कम नहीं समझ रहे.