close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अलवर: इंजीनियरिंग कॉलेज की छात्रा ने हॉस्टल में लगाई फांसी, मामले की जांच में जुटी पुलिस

बताया जा रहा है कि मृतक मंगलवार क्लास में भी नहीं गई थी और दो दिन पूर्व ही उसे अपने घर टपूकड़ा के गुवारिया से उसका भाई होस्टल छोड़ कर गया था.

अलवर: इंजीनियरिंग कॉलेज की छात्रा ने हॉस्टल में लगाई फांसी, मामले की जांच में जुटी पुलिस
प्रतीकात्मक तस्वीर

अलवर: एक निजी इंजीनियरिंग कॉलेज में मंगलवार शाम एक बी फार्मेसी की फर्स्ट ईयर की छात्रा द्वारा होस्टल में पंखे से लटक कर फांसी लगाने से मौत हो जाने का मामला सामने आया है. परिजनों ने मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम कराए जाने के साथ ही पूरी जांच करने की मांग की है. पिता का आरोप है कि एक युवक उसे मोबाइल पर कई दिनों से परेशान कर रहा था, श्रम मंत्री टीकाराम जूली भी बुधवार सुबह अस्पताल पहुंचे और परिजनों से मिलकर उन्हें निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिया.

मंगलवार शाम को करीब 6 बजे अलवर के एमआईए क्षेत्र स्थित आईईटी इंजीनियरिंग कॉलेज बी फार्मेसी फर्स्ट ईयर में पढ़ने वाली निकिता मेघवाल के फांसी लगाए जाने से हड़कम्प मच गया. सूचना पर एमआईए थाना पुलिस मौके पर पहुंची और शव को उतरवाकर अस्पताल मोर्चरी पहुंचाया. 

बताया जा रहा है कि मृतक मंगलवार क्लास में भी नहीं गई थी और दो दिन पूर्व ही उसे अपने घर टपूकड़ा के गुवारिया से उसका भाई होस्टल छोड़ कर गया था. छात्रावास वार्डन ने निकिता के अंदर से कमरा बन्द होने और आवाज देने पर नहीं खोलने की सूचना प्रबंधन को दी और प्रबंधन ने पुलिस को सूचित किया. मौके पर पहुंचे पुलिस कर्मियों ने दरवाजा तोड़ कर पंखे से लटके निकिता के शव को नीचे उतारा और तहकीकात की. वहां किसी प्रकार का सुसाइड नोट नहीं मिला, लेकिन पिता नरेश कुमार मेघवाल ने इस मामले में मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम कराने और निष्पक्ष जांच की भी मांग की है.

खबर की जानकारी मिलने पर श्रम मंत्री टीकाराम जूली भी अस्पताल पहुंचे और परिजनों से घटना की पूरी जानकारी ली. साथ मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम कराए जाने के साथ ही निष्पक्ष जांच का भी भरोसा दिलाया.