भूल से भी न गंवाएं मौका, Rajasthan के इन दो जिलों में होने जा रही 'सेना भर्ती रैली'!

प्रदेश में बेरोजगार युवाओं के लिए बहुत बड़ा महत्वपूर्ण आयोजन होता है. सेना भर्ती रैली. हर साल करीब पांच हजार युवाओं का विभिन्न पदों के लिए सेना में चयन होता है.

भूल से भी न गंवाएं मौका, Rajasthan के इन दो जिलों में होने जा रही 'सेना भर्ती रैली'!
उदयपुर कलेक्टर ने आगामी भर्ती के लिए एक करोड़ रुपये का बजट मांगा है.

जयपुर: कोरोना (Corona) के दौरान संकटों से जूझने वाले बेरोजगार युवाओं (Unemployed youth) के लिए अच्छी खबर है. राजस्थान (Rajasthan) में अगले दो महीने में दो जगह सेना भर्ती रैली (Army recruitment rally) आयोजित की जाएगी. उदयपुर (Udaipur) में फरवरी और मार्च में, जयपुर (Jaipur) में सेना भर्ती रैली होगी. जिला प्रशासन और सेना भर्ती शाखा ने इसकी तैयारियां शुरू कर दी हैं. 

यह भी पढ़ें- Rajasthan में शुरू हो रही है सेना भर्ती, जानिए आपके जिले में कब होगा भर्ती रैली का आयोजन

प्रदेश में बेरोजगार युवाओं के लिए बहुत बड़ा महत्वपूर्ण आयोजन होता है. सेना भर्ती रैली. हर साल करीब पांच हजार युवाओं का विभिन्न पदों के लिए सेना में चयन होता है. वर्तमान वित्तीय वर्ष में कोरोना के कारण सेना भर्ती रैली का आयोजन नहीं किया गया. इससे राजस्थान (Rajasthan) के युवा रोजगार के अच्छे अवसर से वंचित रहे, यह बात दूसरी है कि दूसरे राज्यों में सितम्बर में रैली के आयोजन शुरू हो चुके हैं. इधर राजस्थान में भी कोराना का प्रभाव अब कम होता जा रहा है, ऐसे में सेना भर्ती रैली कराने का निर्णय लिया गया. 

मुख्य बिंदु

-सेना भर्ती रैलियों को लेकर 6 जनवरी को गृह सचिव की अध्यक्षता में हुई बैठक में निर्णय लिया गया.
-8 से 27 फरवरी तक उदयपुर के महाराणा प्रताप खेल गांव चित्रकूट नगर भुवाना में सेना भर्ती कराई जाएगी.
- जयपुर में मार्च में सीआईएसएफ कैम्पस में होगा सेना भर्ती रैली का आयोजन, हालांकि अभी तारीख तय नहीं हुई है.
-  उर्स के कारण अजमेर में सेना भर्ती रैली नहीं कराई जा सकेगी.
- बीकानेर में चालू वित्तीय वर्ष 2020-21 में रैली आयोजन से किया इनकार, अगली भर्ती रैली के लिए तारीख पर विचार अलग से होगा. 

- सेना भर्ती मुख्यालय ने भर्ती रैली के दौरान कोरोना गाइड लाइन की पालना करने के निर्देश दिए हैं.
- भर्ती रैली की तैयारियों और व्यवस्थाओं के लिए राज्य सरकार से बजट आवंटन की मांग.
-इधर उदयपुर जिला प्रशासन ने भर्ती रैली से पूर्व वर्ष 2017 की रैली पर खर्च हुआ बजट मांगा.
- वर्ष 2017 में एथलेटिक्स ट्रेक, मैदान की लेवलिंग पर बीस लाख तथा टेंट, लाइट बैरिकेंडिंग, सीसीटीवी कैमरों पर 35 लाख और नगर निगम के 18 लाख खर्च हुए थे.
- उदयपुर कलेक्टर ने आगामी भर्ती के लिए एक करोड़ रुपये का बजट मांगा है.
- 13 जनवरी को श्रम सचिव नीरज के पवन की अध्यक्षता में हुई बैठक में सेना, जिला प्रशासन और अन्य संस्थाओं के अधिकारी मौजूद थे.
- जयपुर-उदयपुर जिला प्रशासन को सेना भर्ती मुख्यालय से समन्वय रखने के लिए कहा गया है.
- सेना भर्ती रैली के दौरान सामान्य मेडिकल टीमों के साथ वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए जिला प्रशासन ऑब्जर्वेंट टीम भी लगाएंगे.
- यह ऑब्जर्वेंट टीम संभावित संक्रमित पर रैली आयोजन स्थल पर नजर रखेगी और उन्हें प्रतियोगिता से दूर मेडिकल सेवा दिलवाएगी.
- इधर जिला प्रशासन को बस स्टैंड-रेलवे स्टेशन से अभ्यर्थियों को बसों से रैली स्थल पर छोड़ने के निर्देश दिए गए हैँ.
- वहीं रैली समाप्ति के बाद उन्हें बसों से रैली स्थल से बस स्टैंड-रेलवे स्टेशन छोड़ा जाएगा.

- जिला प्रशासन बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन पर आने वाले प्रतिभागियों के  लिए अपनी सुविधानुसार रेन बसेरा की व्यवस्था करेगा.
-  भर्ती रैली के 72 घंटे पहले अभ्यर्थी को कोरोना टेस्ट कराना अनिवार्य होगा, इसकी सूचना एडमिट कार्ड लिखी होगी.
-   राजस्थान में बायोमैट्रिक मशीन का उपयोग बैन है, लेकिन सेना भर्ती कार्यालय इसका उपयोग करता है तो कोविड गाइड लाइन के अनुसार प्रयोग करेगा.
- सेना भर्ती रैली में 3000 से अधिक प्रतिभागियों को नहीं बुलाया जाएगा.
- भर्ती रैली के दौरान दो कैम्पों के बीच एक गैलरी बनाई जाएगी ताकि सोशल डिस्टेंस की पालना हो सके.