close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान विधानसभा में RSS की शाखा पर हमले के मुद्दे पर हंगामा, सरकार से मांगा जवाब

शाखा लगाने के मुद्दे पर बूंदी जिले में संघ की शाखा लगने से रोकने के मुद्दे पर बीजेपी नेताओं ने कांग्रेस पर जमकर हमला बोला.

राजस्थान विधानसभा में RSS की शाखा पर हमले के मुद्दे पर हंगामा, सरकार से मांगा जवाब
इस दौरान कांग्रेस के खिलाफ नारेबाजी भी हुई. (प्रतीकात्मक फोटो)

जयपुर: राजस्थान विधानसभा में संघ की शाखा पर हमले को लेकर हंगामा हुआ. भाजपा विधायक मदन दिलावर ने शून्यकाल में पर्ची के माध्यम से बूंदी के एक पार्क में संघ की शाखा में बच्चों पर हुए हमले का मामला उठाया.

इस दौरान विधायक दिलावर ने कहा कि यह बंगाल और केरल नहीं है, यह राजस्थान है. इसके साथ ही उन्होंने सरकार को चेताया और कहा कि अगर मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई तो इन लोगों को पकड़कर पुलिस के हवाले करना पड़ेगा. 

सदन में रही कोलाहल की स्थिति
संघ की शाखा में बच्चों पर हमले के मामले में सदन में कोलाहल की स्थिति बनी. इस दौरान नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने भी दखल दिया और कहा कि मामला बहुत गंभीर है. इस मामले में सरकार को जवाब देना चाहिए. कटारिया के दखल के बाद संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने दखल दिया और कहा कि पर्ची के मुद्दे पर अन्य कोई सदस्य नहीं बोल सकता. इस पर सदन में हंगामा होने लगा. भाजपा के विधायकों ने कांग्रेस के खिलाफ नारेबाजी की. 

हंगामा होते देख आसन पर आए अध्यक्ष सीपी जोशी
सदन में हंगामे के समय सभापति राजेन्द्र पारीक आसान पर थे. हंगामा होते देख अध्यक्ष सीपी जोशी आसन पर आए. सीपी जोशी के आने पर उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड ने पूरे मामले की जानकारी दी. इस पर शांति धारीवाल ने दखल दिया और कहा कि नेता प्रतिपक्ष को बोलने की अनुमति नहीं दी गई थी. इस पर सीपी जोशी और धारीवाल में बहस हुई. जोशी ने कहा कि सदन चलाना मेरी जिम्मेदारी है. उन्होंने कहा कि सभी को पूरा मौका मिलेगा, लेकिन गलत बात अंकित नहीं होगी. 

शाखा लगाने की बात को लेकर हुई तनातनी
मदन दिलावर की और से उठाए गए मामले पर शांति धारीवाल ने जवाब दिया और कहा कि सार्वजनिक पार्क में एक समुदाय की कुछ बच्चियां झूला झूल रही थी. इस दौरान कुछ बच्चे आरएसएस की शाखा लगाने के लिए आए. उन्होंने बच्चियों को वहां से हटने के लिए कहा. इस पर दो पक्षों में तनातनी हो गई. दोनो पक्षों ने बातचीत की और कहा कि यह सार्वजनिक पार्क है. इसमें आप भी शाखा लगाइए, हम भी खेल लेते हैं. इसके बाद अचानक दोनों पक्षों में विवाद की स्थिति बन गई. 

निष्पक्ष रूप से होगी कार्रवाई
धारीवाल ने कहा अगर 50 लोगों ने हमला किया था तो फिर एफआईआर में 5 का ही नाम क्यों लिखाया गया. मामले में दिलावर ने मुझे भी फोन किया था. मामले में एसपी से जानकारी ली है. एक आदमी को रात को गिरफ्तार कर लिया गया था. गुरुवार सुबह दूसरी गिरफ्तारी हुई है. इसके साथ ही उन्होंने मामले में निष्पक्ष कार्रवाई का आश्वासन दिया.