close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

श्रीगंगानगर: ढाई साल के इस बाबा के पास चमत्कारी शक्ति का दावा, जानिए पूरी कहानी

इस कथित बाबा के पास हर रोज हजारों व्यक्ति चमत्कारी शक्तियों के कहानियां सुनने के बाद पहुंच रहे हैं.

श्रीगंगानगर: ढाई साल के इस बाबा के पास चमत्कारी शक्ति का दावा, जानिए पूरी कहानी
यह बाबा राजस्थान पंजाब बॉर्डर के अचड़की का रहने वाला है.

श्रीगंगानगर: देश में आए दिन नए चमत्कारों और बाबाओं की कहानी सुनने को मिलती है. इन चमत्कारों की आड़ में लोगों को ठगा भी जाता है. ऐसा ही एक मामला राजस्थान-पंजाब बॉर्डर पर स्थित गांव अचड़की में सामने आया है. इस कथित बाबा के पास हर रोज हजारों व्यक्ति पहुंच रहे हैं. लोगों का दावा है कि उनके छूने मात्र से बीमारियों से छुटकारा मिल जाता है. इस बाबा की उम्र केवल ढाई साल है. 

स्थानीय लोगों का दावा है कि यह बाबा जिसके सिर पर हाथ फेरते है उनकी बीमारी ठीक होने लगती है. यहां आने वाले बीमार व्यक्ति को पांच बार बाबा से हाथ फिरवाना होता है.

लाइव टीवी देखें-:

यहां आने वाले लोगों का कहना है कि सभी को पहले 10 रुपए की बूंदी का प्रसाद कमरे मेँ रखी दो मूर्तियों पर चढ़ाना होता है. लेकिन लंबी लाइन के कारण इस प्रक्रिया के पूरा होने में दो तीन घंटे लग जाते हैं. कमरे के बाहर कहीं पर एक दानपात्र रखा हुआ है जिसमे सभी लोग कुछ ना कुछ चढ़ावा डालते हैं. हालांकि ये घोषणा की जाती है कि कोई किसी को भेंट ना दे. इस दौरान बाबा के घर पर उनका इंतजार शुरू हो जाता है.

ढाई साल के बाबा के लिए है सारे इंतजाम
बाबा को गर्मी से बचाने के लिए बैटरी के पंखे का इंतजाम है. इसके साथ ही सेवादार भी उनकी सेवा में लगे रहते हैं. इस दौरान आने वाले लोगों की किसी परेशानी में होने के बाद उनकी सेवा के लिए भी लोग मौजूद हैं.

बाबा के गांव में लगी हैं दुकानें
बाबा के कथित चमत्कार की कहानी सुनने के बाद यहां आप-पास के गांवों के लोगों की भीड़ जुट रही है. जिसके बाद गाँव मेँ कई दुकानें खुल चुकी हैं. पिछले दो महीनों से गांव में सुबह लोगों का आना शुरू हो जाता है.

जानिए क्या है कहानी
बताया जा रहा है कि गांव के एक व्यक्ति के बाबा के हाथ फेंरने से उसकी बीमारी ठीक होने लगी. जिसकी खबर लगने के बाद उन्हें चमत्कारी बाबा माना जाने लगा. वैसे विज्ञान इस तरह से किसी रोग के ठीक होने की बात से इंकार करता है.