उदयपुर में अगस्त में बेकाबू हुआ कोरोना संक्रमण, सितंबर आंकड़ों को लेकर फैला डर

71 डॉक्टर्स सहित चिकित्सकीय स्टाफ के साथ 30 पुलिस के जवान और अधिकारी भी संक्रमण का शिकार हो चुके हैं. 

उदयपुर में अगस्त में बेकाबू हुआ कोरोना संक्रमण, सितंबर आंकड़ों को लेकर फैला डर
प्रतीकात्मक तस्वीर.

अविनाश जगनावत, उदयपुर: सितंबर माह लगने के साथ ही देशभर में अनलॉक 4.0 लागू हो गया है, जिसमें केंद्र और प्रदेश सरकार ने कोरोना काल मे मिलने वाली रियायतों को ओर बढ़ा दिया है लेकिन दूसरी तरफ़ देश के साथ लेकिसिटी उदयपुर में भी कोरोना संक्रमण अपने पैर पसार रहा है. 

लोगों के घरों से बाहर निकलने के साथ ही कोरोना संक्रमण का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है. बात अगर अगस्त माह की करें तो इस दौरान जिले में कोरोना मरीजों की संख्या दुगुनी से भी अधिक हो गई है. पेश है लेकिसिटी में विकराल रूप ले रहे कोरोना संक्रमण पर ये रिपोर्ट-

यह भी पढ़ें- Covid-19: राजस्थान में दर्ज हुए 670 नए पॉजिटिव केस, एक्टिव मरीजों की संख्या 14,372

देश को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम अशोक गहलोत ने लॉकडाउन का सहारा लिया लेकिन जब चरणबद्ध तरीके से लॉकडाउन में रियायत दी गए और लोग घरों से बाहर निकलने लगे. इसके साथ ही उदयपुर में कोरोना संक्रमण ने अपने पैर पसारने शुरू कर दिए. वहीं, इस दौरान लोगों की ओर से बरती जा रही लापरवाही ने लगातर फैल रहे संक्रमण को ओर अधिक बढ़ने में मदद की. प्रशासन की सख्ती और जागरूकता अभियान के बाद भी लोग कोरोना की सामान्य गाइड लाइन की पालना करने से परहेज कर रहे हैं, जिसे देख कर लगता है कि अब लोगों में कोरोना का डर खत्म हो रहा है. 

इसी के चलते लगातार कोरोना बढ़ रहा है. उदयपुर में अप्रैल माह में कोरोना का पहला केस सामने आया था. इसके बाद जुलाई माह जिले में 1304 कोरोना संक्रमित सामने आए थे और महज 284 एक्टिव केस बचे थे. संक्रमितों में करीब 140 कोरोना वॉरियर्स शामिल थे लेकिन अगस्त माह खत्म होने तक यह दुगुनी से भी ज्यादा हो गई और 31 जुलाई तक कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 2807 पहुंच गई. इसमें कोरोना वॉरियर्स की संख्या 150 से अधिक है. 

इस दौरान 71 डॉक्टर्स सहित चिकित्सकीय स्टाफ के साथ 30 पुलिस के जवान और अधिकारी भी संक्रमण का शिकार हो चुके हैं. इसके साथ ही जिले में कोरोना वॉरियर्स के संक्रमित होने की संख्या भी 300 हो गई, जो जिला प्रशासन के लिए भी चिंता का सबब बनता जा रहा है. ऐसे में अगर कोरोना संक्रमण को रोकना है तो लोगो अपना लापरवाही को छोड़ना होगा और सरकार की ओर से जारी गाइड लाइन की पालना करनी होगी. जिससे कोरोना को मात देने में सफलता मिल सके.