राजस्थान के प्रदूषण को कम करेगी 'ई-साइकिल', गहलोत सरकार ने किया MOU

राज्य को प्रदूषण से मुक्त रखने के लिए सरकार ने गोवा बेस्ट कंपनी बी लाइव के साथ एमओयू किया है. इस कंपनी ने सरकार की इस मंशा के अनुरूप जयपुर में कार्य शुरू कर दिया है. 

राजस्थान के प्रदूषण को कम करेगी 'ई-साइकिल', गहलोत सरकार ने किया MOU
पर्यावरण को सुरक्षित रखने में ई-साइकिल मदद करेगी.

अरुण हर्ष/जोधपुर: प्रदेश की सरकार 1 वर्ष पूरे होने पर राज्य को प्रदूषण से मुक्त रखने के लिए सरकार ने गोवा बेस्ट कंपनी बी लाइव के साथ एमओयू किया है. इस कंपनी ने सरकार की इस मंशा के अनुरूप जयपुर में तो कार्य शुरू कर दिया है. अगले सप्ताह से जोधपुर में भी इसको लागू करने जा रहे हैं.

राजस्थान आने वाला पर्यटक कई बार भीड़-भाड़ होने के कारण से जाम में फंस जाते हैं. कई बार अपने वाहन ऐतिहासिक धरोहर तक ले जा नहीं सकते है. ऐसे में कई बार पर्यटक निराश हो जाते हैं, लेकिन अब राज्य सरकार ने बी लाइव कंपनी के साथ ई-साइकिल (e-cycle) का एमओयू किया है. इस कंपनी ने देश के गोवा, पुद्दुचेरी, कर्नाटक और गुजरात में सफलतापूर्वक e-cycle स्कीम लागू की है. 

वहीं, अन्य राज्यों में इसकी सफलता को देखते हुए राज्य सरकार ने भी इस कंपनी के साथ एमओयू किया है. जिसमें कंपनी देसी विदेशी सैलानियों को जोधपुर के ऐतिहासिक पर्यटक स्थलों के साथ-साथ जोधपुर की कलाकृतियों से रूबरू कराएंगे. वहीं, पर्यटकों को ई-साइकिल के द्वारा भ्रमण करवाएगी, जिससे भीड़भाड़ वाले इलाकों में ट्रैफिक का बोझ कम होगा और पर्यावरण को सुरक्षित रखने में ई-साइकिल (e-cycle) मदद करेगी.

ecycle

बी लाइव कंपनी के जोधपुर पार्टनर यशोवर्धन सिंह ने बताया कि कंपनी का मकसद पर्यटन स्थलों को प्रदूषण मुक्त रखने और इको टूरिज्म को बढ़ावा देने के उद्देश्य से इलेक्ट्रिकल साइकिल किराए पर देगी. इसकी शुरुआत जयपुर में तो हो चुकी है. अब आने वाले दिनों में जोधपुर में भी यह स्कीम शुरू की जाएगी. देसी विदेशी सैलानी  मोबाइल ऐप के जरिए e-cycle बुक करवा सकेंगे. बी लाइव का मकसद है कि पोलूशन फ्री पर्यटक स्थल हो. इसके लिए सैलानियों को फिलहाल राजस्थान के जयपुर और जोधपुर में किराए पर ई बाइक दी जाएगी. 

वहीं, इनके साथ एक कैप्टन भी होगा जो पर्यटकों को अच्छी जगह ऐतिहासिक स्थल गलियां आर्किटेक्ट पुराने व्यापार और खाने-पीने की दुकानों तक लेकर जाएगा. इस पूरे एडवेंचर के लिए 2 से ढाई घंटे की राइड होगी, जिसके लिए पर्यटकों से 2000 रुपए शुल्क लिया जाएगा. इसमें पर्यटकों के लिए स्नैक्स, एंट्री फीस और पार्किंग शुल्क शामिल होगा.

यशोवर्धन ने बताया कि फिलहाल 20 ई साइकिल के साथ कंपनी सेवाएं दे रही है. वहीं, ऑस्ट्रेलिया से आए हुए पर्यटक ने भी e-cycle ट्रिप की तारीफ की और बताया कि ट्रैफिक का बोझ कम करने और पर्यावरण को सुरक्षित रखने के लिए यह बहुत ही अच्छा प्रयास है. इससे पर्यटकों को भी लाभ होगा. बढ़ते हुए प्रदूषण से कमी लाने के लिए विदेशों की तर्ज पर अब देश में भी इको टूरिज्म पर जोर दिया जा रहा है. जिससे आने वाले दिनों में पर्यावरण की रक्षा में ई साइकिल का भी योगदान रहेगा.