close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: स्वच्छता सर्वेक्षण में अव्वल आने के लिए नई पॉलिसी लेकर आएगा नगर निगम

 कचरे की इस समस्या से निजात पाने के लिए जयपुर नगर निगम प्रशासन अब नई नीति पर काम कर रहा है, जिसके तहत शहर में ऐसी बिल्डिंग, संस्थान को चिंहित किया जा रहा है. 

जयपुर: स्वच्छता सर्वेक्षण में अव्वल आने के लिए नई पॉलिसी लेकर आएगा नगर निगम
जयपुर नगर निगम अब नई नीति पर काम कर रहा है

रोशन शर्मा/जयपुर: स्वच्छता सर्वेक्षण में अपनी गिरती रैंकिग को सुधारने के लिए जयपुर नगर निगम प्रशासन अब नए सिरे से काम कर रहा है. नगर निगम, शहर से कचरा कलेक्ट करने के साथ-साथ गीले और सुखे कचरों को अलग-अलग कलेक्ट करने के साथ कचरा निस्तारण पर भी काम कर रहा है. हालांकि शुरूआती दौर में इसके परिणाम नहीं देखने को मिल रहे हैं, लेकिन अब नगर निगम प्रशासन इस मुहिम को आमजन तक पहुंचाने के लिए एक नई पॉलिसी लेकर आ रहा हैं.

राजधानी जयपुर में हर रोज 1600 मेट्रिक टन से लेकर 2 हजार मेट्रिक टन कचरे का उत्पादन हो रहा है. प्रतितिन इतने बड़े स्थर पर कचरे का उत्पादन होने के बाद भी कचरे का निस्तारण नहीं हो रहा है. कचरे की इस समस्या से निजात पाने के लिए जयपुर नगर निगम प्रशासन अब नई नीति पर काम कर रहा है, जिसके तहत शहर में ऐसी बिल्डिंग, संस्थान को चिंहित किया जा रहा है. जो संस्था, बिल्डिंग, 100 किलों से ज्यादा प्रतिदिन कचरे का उत्पादन करेगें, उन संस्थानों और बिल्डिंग मालिकों को कचरा कम्पोस्ट मशीन लगानी अनिवार्य होगी.

स्वायत्त शासन विभाग की और से नोटिफिकेशन जारी होने के बाद जो संस्थाए कम्पोस्ट मशीन नहीं लगाएगी उन संस्थानों और बिल्डिंगो को सीज करने की कार्यवाही अमल में लायी जाएगी. केवल जयपुर शहर की बात की आज तो जयपुर नगर निगम प्रशासन नें शहर में करीब 700 से ज्यादा सस्थानों, और मल्टीस्टोरी बिल्डिंगों को चिंहित कर लिया गया हैं. जिन्हे कचरा निस्तारण यंत्र लगाने अनिवार्य होगें.

ऐसे में अगर जयपुर शहर में ऐसे 600 के करीब भी यंत्र लगते हैं तो 60 मेट्रिक टन से लेकर 100 मेट्रिक टन प्रतिदिन कचरे का निस्तारण उस ही स्थान पर हो जाएगा. जिसका फायदा ये होगा की बढ़ते कचरे की समस्या के समाधान के साथ साथ तेजी से निस्तारण होगा और कचरे के परिवहन में खर्च होने वाले पैसे और समय की बचत होगी.