विधानसभा उपचुनाव 2021 के रण में Congress ने उतार दी पूरी फौज, होगी कांटे की टक्कर!

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की कामकाज पर जनता का वर्डिक्ट इन चुनाव में तो आएगा ही लेकिन साथ ही तीनों सीटों पर कांग्रेस के दिग्गज नेताओं की प्रतिष्ठा हुई दांव पर लगी हुई है.

विधानसभा उपचुनाव 2021 के रण में Congress ने उतार दी पूरी फौज, होगी कांटे की टक्कर!
प्रतीकात्मक तस्वीर.

Jaipur: प्रदेश में हो रहे 3 विधानसभा सीटों के उपचुनाव को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) और कांग्रेस (Congress) के वरिष्ठ नेताओं ने अपनी पूरी ताकत झोंक रखी है. कांग्रेस की स्टार प्रचारकों की सूची के बाद अब पीसीसी के पदाधिकारियों की फौज भी चुनाव में उतारने की तैयारी की जा रही है. 

यह भी पढ़ें- Rajasthan bypolls: विधानसभा उपचुनाव से पहले BJP का सियासी दांव, RLP पर कसा 'टीम तंज'

 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की कामकाज पर जनता का वर्डिक्ट इन चुनाव में तो आएगा ही लेकिन साथ ही तीनों सीटों पर कांग्रेस के दिग्गज नेताओं की प्रतिष्ठा हुई दांव पर लगी हुई है.

यह भी पढ़ें - Rajasthan: 3 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के लिए BJP-Congress को है जिताऊ चेहरे की तलाश

 

प्रदेश की तीन सीटों पर हो रहे विधानसभा उपचुनाव (Assembly by-election) कांग्रेस के लिए किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं है, इसकी एक वजह ये भी है कि तीन में से दो सीटें सुजानगढ़ (Sujangarh) और सहाड़ा (Sahada) पर कांग्रेस का कब्जा था, ऐसे में दोनों सीटों पर कब्जा बरकरार रखना कांग्रेस के लिए बड़ी चुनौती है. इसके अलावा इन उपचुनावों में कांग्रेस की दिग्गजों की साख भी दांव पर लगी हुई है. 

सुजानगढ़ और सहाड़ा सीटों हैं कांग्रेस की सबसे बड़ी चुनौती
सुजानगढ़ और सहाड़ा सीटों को कांग्रेस किसी भी कीमत पर खोना नहीं चाहती, यही वजह है कि कांग्रेस ने पूरी ताकत लगाते हुए दिग्गज नेताओं की फौज चुनाव में उतार दी है.

सुजानगढ़ सीट से कांग्रेस को सबसे ज्यादा उम्मीदें हैं, यही वजह है कि पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) ने खुद यहां की कमान अपने हाथों में ली है. डोटासरा के स्व जातीय वोट भी यहां बड़ी संख्या है. साथ ही डोटासरा का निर्वाचन क्षेत्र लक्ष्मणगढ़ भी सुजानगढ़ से सटा है. ऐसे में डोटासरा की साख भी यहां दांव पर है. डोटासरा के साथ प्रभारी मंत्री भंवर सिंह भाटी, मंगलाराम गोदारा, डूंगरराम गेदर और नोरंग वर्मा की साख भी जुड़ी है. सुजानगढ़ उपचुनाव से चूरु जिले के कद्दावर नेता तारानगर विधायक नरेंद्र बुडानिया, राजगढ़ विधायक कृष्णा पूनिया, कांग्रेस नेता रफीक मंडेलिया ,पूर्व मंत्री राजकुमार रिणवा, पूसाराम गोदारा और भंवरलाल पुजारी, महिला कांग्रेस की अध्यक्ष रेहाना रियाज की साख दांव पर लगी है. यही वजह है कि चूरू जिले के तमाम दिग्गजों ने सुजानगढ़ में डेरा डाल रखा है.

सहाड़ा विधानसभा क्षेत्र की कमान चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा संभालेंगे
इसके अलावा सहाड़ा विधानसभा क्षेत्र की कमान चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा, सुजानगढ़ की जिम्मेदारी मंत्री भंवर सिंह भाटी और राजसमंद की कमान मंत्री उदयलाल आंजना के हाथों में हैं.

सहाड़ा विधानसभा क्षेत्र में चुनाव प्रभारी बनाए गए चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा, पूर्व मंत्री हरिमोहन शर्मा, धर्मेंद्र सिंह राठौड़, रामसिंह कस्वा की साख भी जुड़ी है. इसके अलावा भीलवाड़ा से लोकसभा चुनाव लड़ चुके खेल मंत्री अशोक चांदना की साख यहां दांव पर है. इसके अलावा भीलवाड़ा कद्दावर नेता विधायक रामलाल जाट, रामपाल शर्मा, कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव धीरज गुर्जर की प्रतिष्ठा भी इस चुनाव से जुड़ी है.

राजसमन्द पर कांग्रेस सबसे कमजोर स्थिति में 
तीसरी सीट राजसमन्द पर कांग्रेस सबसे कमजोर स्थिति में है. राजसमंद विधानसभा सीट पर पार्टी को चार बार से लगातार यहां हार का सामना करना पड़ रहा है. हालांकि इस बार निकाय चुनाव में कांग्रेस का बोर्ड बनने से कांग्रेस की यहां उम्मीदें जगी हैं.

राजसमंद चुनाव की कमान यहां मंत्री उदयलाल आंजना (Udailal Anjana) के हाथों में हैं. इसके अलावा मंत्री प्रमोद जैन भाया (Pramod Jain Bhaya) और संगठन प्रभारी के नाते पुष्पेंद्र भारद्वाज, आशीष परेवा (Ashish Parewa) और मुकेश वर्मा की साख दांव पर है. राजसमंद जिले के प्रमुख नेताओं में सबसे बड़ा नाम विधानसभा अध्यक्ष डॉक्टर सीपी जोशी (CP Joshi) का हैं. हालांकि सीपी जोशी वैधानिक पद पर हैं और राजनीतिक भूमिका नहीं निभा सकते लेकिन उनके गृह जिले की अहम सीट पर होने वाले चुनाव में सीपी फैक्टर से इनकार नहीं किया जा सकता हैं. सहाड़ा और राजसमंद दोनों जगह पर गुर्जर समाज के वोट अपनी ताकत रखते हैं लिहाजा सचिन पायलट फैक्टर यहां अहम रोल निभा सकता है. 

कांग्रेस के लिए अग्नि परीक्षा की तरह हैं ये चुनाव
कुल मिलाकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उनकी सरकार के साथ-साथ यह चुनाव आने वाले विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के लिए किसी बड़ी अग्निपरीक्षा से कम नहीं है. यह चुनाव परिणाम अशोक गहलोत के कामकाज पर जनता की अभिव्यक्ति को व्यक्त करेगा वहीं कांग्रेस के दिग्गज नेताओं का भविष्य में भी चुनाव परिणामों पर निर्भर करने वाला है.