शहीदों के नमन करने के लिए जयपुर के बाजार रहे बंद, नम आंखों से दी गई श्रद्धांजलि

पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद प्रदेश के कारोबार जगत भी आतंकियों की कायराना हरकत से स्तब्ध और आक्रोशित है.

शहीदों के नमन करने के लिए जयपुर के बाजार रहे बंद, नम आंखों से दी गई श्रद्धांजलि
राज्य के व्यापारियों को केंद्र के कठोर फैसले का इंतजार है.

जयपुर: पुलवामा की घटना के बाद राजधानी जयपुर के सूने बाजार, दूकानों के शटर डाउन, सड़कों पर रैली और प्रदर्शन नहीं केवल और केवल बंद है. शनिवार को स्वैच्छिक राजस्थान बंद दिख रहा है. पुलवामा में हुए आतंकी हमले से प्रत्येक देशवाशी आहत हैं. इस दौरान प्रदेश के कारोबार जगत भी आतंकियों की कायराना हरकत से स्तब्ध और आक्रोशित है.

राज्य भर में शनिवार को बिना किसी औपचारिक ऐलान के प्रदेशभर के कारोबारियों अपने प्रतिष्ठान बंद रखकर वीर शहीदों को नमन किया. एकस्वर में उनके परिवारों के साथ खड़े होने का ऐलान किया. शांति से कारोबार की उम्मीद रखने वाले व्यापारियों के चेहरे पर गुस्सा दिखा. उनकी मांग कर दरों कटौती और सुविधाओं की नहीं बल्कि आतंत की सरजमीं को नेस्तनाबुत करने की रही. 

इस दौरान जयपुर के चेम्बर भवन में फोर्टी, जयपुर व्यापार महासंघ, आल राजस्थान दुकानदार महासंघ, जोहरी बाजार व्यापार मंडल, राजस्थान चेंबर ऑफ कॉमर्स, राजस्था खाद्य पदार्थ व्यापार महासंघ समेत तमाम औद्योगिक, व्यावसायिक और व्यापारिक संगठनों के सदस्य पदाधिकारियों ने शहीदों को अश्रुपुरित श्रृद्वांजलि दी.

शहीदों के परिवार को देंगे पूरा सहयोग
 
जयपुर के चेम्बर भवन में शनिवार को पुलवामा हमले में शहीद हुए वीर जवानों को नमन किया गया.श्रद्वांजलि सभा में आए प्रत्येक कारोबारी ने समवेत स्वर में आतंक की सरजमीं पर कठोर कार्रवाई की मांग की.कारोबारियों ने कहा कि केंद्र के सख्त एक्शन पर हम साथ हैँ. हमारी आंख में आसूं भरने वालों को अब कड़ा सबक सिखाने की जरूरत हैं. फोर्टी के चेयरमैन सुरेश अग्रवाल ने कहा कि फोर्टी ने यह तय किया हैं कि शहीद परिवार के बच्चों की शिक्षा का पूरा खर्च उठाया जाएगा. साथ ही उनके परिवार के एक सदस्य के रोजगार की भी व्यवस्था की जाएगी.

चेम्बर भवन में श्रृद्वांजलि सभा के साथ ही शहीदों के सम्मान और नमन करने के लिए स्वैच्छिक बंद रखा गया.बंद के दौरान बड़े बड़े बैनर्स पर व्यापरियों ने कश्मीर को विशेष दर्जा वापस लेने और आतंक का सफाया करने की मांग लिखी..

शहर के बाजार रहे पूरी तरह बंद

जयपुर के चारदीवारी क्षेत्रों समेत बाहर के बाजारों में दूकानें नहीं खुली. जौहरी बाजार, चांदपोल, बापू बाजार, सोडाला, किशनपोल, एम आई रोड समेत सभी बाजार बंद रहे.प्रदेश में भी सुबह के सत्र में कारोबारियों ने अपनी दूकानें बंद रखी. राजस्थान खाद्य पदार्थ व्यापार महासंघ के चेयरमैन बाबूलाल गुप्ता  ने बताया कि राजस्थान की मंडियों में भी शहीदों को नमन करते हुए श्रृद्वांजलि सभाओं का आयोजन हुआ.जयपुर व्यापार महासंघ के अध्यक्ष सुभाष गोयल ने कहा कि जयपुर समेत पूरे राजस्थान में आज सुबह के सत्र में कारोबारी प्रतिष्ठान बंद रहे और श्रृद्वांजलि सभाओं का आयोजन किया गया.केंद्र से अनुरोध किया कि जो सहयोग चाहिए बताईएं लेकिन आतंकियों पर कठोर एक्शन लिजिए.

अब कठोर एक्शन का वक्त 

देश इस घटना से स्तब्ध, आक्रोशित और उद्ववेलित हैं.कारोबारी भी ट्रेड और व्यापार से जुड़े तमाम रिश्ते उस देश से खत्म करना चाहते हैं जो आतंकियों को फंड और शह देता आया है. श्रद्वांजलि सभा के दौरान तमाम एसोसएिशन के पदाधिकारी एक मंच पर  केंद्र सरकार के संभावित कठोर फैसले के समर्थन में नजर आए.