राजस्थान: लोकसभा चुनाव से पहले गहलोत सरकार ने बढ़ाई न्यूनतम मजदूरी दर

अकुशल श्रमिकों को 5,850 रुपये प्रतिमाह मजदूरी मिलेगी. अर्धकुशल श्रमिक को 225 की जगह 237 रुपये प्रतिदिन मिलेगी. अर्ध कुशल श्रमिकों को 6,162 रुपये प्रतिमाह मजदूरी मिलेगी.

राजस्थान: लोकसभा चुनाव से पहले गहलोत सरकार ने बढ़ाई न्यूनतम मजदूरी दर
फाइल फोटो

जयपुर: राजस्थान सरकार ने लोकसभा चुनाव से पहले श्रमिकों को बड़ा तोहफा दिया है. गहलोत सरकार ने हर मजदूर वर्ग की मजदूरी में बढ़ोतरी की है. प्रत्येक वर्ग को न्यूनतम मजदूरी में 312 रुपये प्रतिमाह का लाभ होगा. अकुशल श्रमिकों की 213 से बढ़ा कर 225 रुपये प्रतिदिन मजदूरी कर दी गई है. 

अकुशल श्रमिकों को 5,850 रुपये प्रतिमाह मजदूरी मिलेगी. अर्धकुशल श्रमिक को 225 की जगह 237 रुपये प्रतिदिन मिलेगी. अर्ध कुशल श्रमिकों को 6,162 रुपये प्रतिमाह मजदूरी मिलेगी. कुशल श्रमिक को 237 रुपये की जगह 249 रुपये प्रतिदिन कुशल श्रमिकों को 6,474 रुपये प्रतिमाह मजदूरी मिलेगी. उच्च कुशल श्रमिक को 287 रुपये की जगह 299 रुपये प्रतिदिन मिलेगा. उच्च कुशल श्रमिकों को 7,774 रुपये प्रतिमाह मजदूरी मिलेगी.

इस संबंध में श्रम विभाग ने अधिसूचना जारी कर दी है. बढ़ी हुई दरें 1 मई से लागू होगीं. लंबे समय से राजस्थान में मजदूरों की मांग चल रही थी कि सरकार न्यूनतम मजदूरी दर बढ़ाए. जिसके बाद में गहलोत सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए श्रमिकों की न्यूनतम मजदूरी बढ़ाई है. सरकार के इस फैसले के बाद में लाखों श्रमिकों के चेहरों पर मुस्कान लौटेगी. 

इस फैसले के बाद श्रमिकों ने सरकार की प्रशंसा करते हुए कहा है कि लंबे समय से श्रमिकों की मांग चल रही थी. जिसको अब अशोक गहलोत सरकार ने पूरा किया है. अब श्रमिकों को न्यूनतम मजदूरी बढ़ाने से राहत मिलेगी लेकिन उनकी कई और मांगे हैं जिसको लेकर सरकार को सोचना होगा.