close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान सरकार काम की गुणवत्ता के लिए सचिवालय कर्मचारियों को देगी ट्रैनिंग

काम की गुणवत्ता और बदलती टैक्नॉलोजी के चलते अब प्रशासनिक सुधार विभाग भी सचिवालय कर्मचारियों की ट्रैनिंग में बदलाव करेगा.

राजस्थान सरकार काम की गुणवत्ता के लिए सचिवालय कर्मचारियों को देगी ट्रैनिंग
इसके साथ ही प्रशासनिक सुधार विभाग एसीएस ने ओटीएस निदेशक को भी पत्र लिखा है.

भरत राज/जयपुर: समय पर ऑफिस पहुंचो, अनुशासन बनाए रखें, समय पर काम पूरा करें. ट्रैनिंग में सिखाई जाने वाली यह बातें अब पुरानी होने वाली है. काम की गुणवत्ता के लिए हर साल कर्मचारियों को ओटीएस में ट्रैनिंग दी जाती है. समय के साथ बदलती टैक्नॉलोजी के चलते अब प्रशासनिक सुधार विभाग भी सचिवालय कर्मचारियों की ट्रैनिंग में बदलाव करेगा.

सचिवालय कर्मचारियों की ट्रैनिंग के नाम पर सालाना लाखों रुपए खर्च किए जाते हैं. जिसमें कर्मचारियों को ट्रैनिंग के नाम पर वो ही सालों से चली आ रही बातों को सुनाकर अधिकारियों-कर्मचारियों का टाइम पास करना अब नहीं चल पाएगा. इसके लिए अब प्रशासनिक सुधार विभाग पूरी तरह तैयार है. प्रशासनिक सुधार विभाग ने सभी विभागों के एसीएस और प्रमुख सचिव को पत्र लिखा है. जिसमें उन्होंने विभागों के सचिवों से पूछा है कि आपके कामकाज की गुणवत्ता बढ़े इसके लिए ट्रैनिंग के लिए आपकी किस तरह की रिक्वायरमेंट है. कितने दिन की ट्रैनिंग होनी चाहिए. किस तरह का ट्रैनर होना चाहिए. 

इसके साथ ही प्रशासनिक सुधार विभाग एसीएस ने ओटीएस निदेशक को भी पत्र लिखा है. जिसमें उन्होंने पूछा है कि ऑफिसर्स ट्रैनिंग स्कूल में कितने ट्रैनर है, क्या वो एलडीसी, यूडीसी, अनुभागाधिकारी और सहायक सचिव को ट्रैनिंग देने के लिए तैयार है. इसके साथ ही उन्होंने पूछा है कि समय के साथ बदल रही टैक्नोलॉजी का ज्ञान भी वो देने में सज्ञम है या नहीं। अगर ट्रैनर भी नई टेक्नॉलोजी का ज्ञान नहीं रखते हैं तो उनकी सेवाएं नहीं ली जाएगी.

एसीएस रविशंकर श्रीवास्तव ने विभागों के सचिवों को निर्देश दिया है कि ट्रैनिंग के दौरान अनुभागाधिकारी या उससे ऊपर लेवल के अधिकारी को नोडल अधिकारी नियुक्त करें. जो ट्रैनिंग में वहां मौजूद रहे और कर्मचारियों से इंटरेक्शन करेगा और रिपोर्ट भेजेगा कि जिस उद्देश्य के लिए ट्रैनिंग रखी गई है वो पूरी हो रही है या नहीं.