close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: शून्यकाल में उठा कोचिंग को रेग्युलेट करने का मामला, सरकार ने दिया जवाब

कोचिंग संस्थानों की ओर से लापरवाही की खबरें भी आती रहती हैं. जिसको लेकर सरकार ने एडवाइजरी जारी की हुई है. कोचिंग संस्थान बच्चों पर दबाव नहीं बनाए. 

राजस्थान: शून्यकाल में उठा कोचिंग को रेग्युलेट करने का मामला, सरकार ने दिया जवाब
फाइल फोटो

जयपुर: सांगानेर विधायक अशोक लाहोटी ने शून्यकाल में कोचिंग रेग्यूलेटिंग अथॉरिटी बनाए जाने को लेकर शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा का ध्यान आकर्षित किया. जिस पर मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि प्रदेश में कोचिंग संस्थानों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. उन्होंने कहा कि कोचिंग संस्थानों के चलते आज गांव से आने वाले किसानों के बच्चे तैयारी करके उच्च पदों पर पहुंच पा रहे हैं. 

कोचिंग संस्थानों की ओर से लापरवाही की खबरें भी आती रहती हैं. जिसको लेकर सरकार ने एडवाइजरी जारी की हुई है. कोचिंग संस्थान बच्चों पर दबाव नहीं बनाए. सरकार की ओर से 2016, 2017, 2018 में परिपत्र किए गए हैं. वहीं हाल ही में 12 जुलाई 2019 को सरकार ने 24 सदस्यीय कमेटी का गठन किया है ताकि कोचिंग संस्थानों की लापरवाहीयों पर लगाम लगाई जा सके. 

अशोक लाहोटी ने पूरक प्रश्न करते हुए कहा कि कोचिंग संस्थानों के चलते छात्रों पर दोहरा भार पड़ रहा है. छात्र स्कूल जा नहीं पा रहे हैं, कोचिंग संस्थान जा रहे हैं. आप चाहे संस्थानों से अटैंडेंस रजिस्टर मंगवाकर देख सकते हैं. जिस पर डोटासरा ने कहा कि सरकार सभी कोचिंग संस्थानों को बंद करने का काम नहीं कर सकती. इससे किसानों के बच्चे पढ़ नहीं पाएंगे. हालांकि, उन्होंने कहा कि फीस ज्यादा लेने की शिकायतों पर कार्रवाई के लिए सरकार काम कर रही है.