close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: अब ऑपरेशन 'सर्द हवा' के तहत सीमा पर सुरक्षा बढ़ाएगी सेना

बीएसएफ अपने रुटिन एक्सरसाइज के दौरान गर्मी के मौसम में ऑपरेशन गर्म हवा और सर्दी के मौसम में ऑपरेशन सर्द हवा चलाती है.

राजस्थान: अब ऑपरेशन 'सर्द हवा' के तहत सीमा पर सुरक्षा बढ़ाएगी सेना
फाइल फोटो

जोधपुर: अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तैनात बीएसएफ द्वारा चौकसी बढ़ाई जा रही है. जिसके चलते बॉर्डर पर तारबंदी के नजदीक जवानों के साथ साथ उनकी हौसला अफजाई करते अधिकारी भी तैनात कर दिए गए हैं और कड़ी निगरानी रखी जा रही है. जानकारी के मुताबिक बॉर्डर पर ऑपरेशन सर्द हवा गुरुवार से शुरु किया जा रहा है . जिसके चलते सीमा पर चौकसी बढ़ाई जा रही है. 17 जनवरी से शुरु हुआ यह ऑपरेशन 30 जनवरी तक चलेगा.

गौरतलब है कि, बीएसएफ अपने रुटिन एक्सरसाइज के दौरान गर्मी के मौसम में ऑपरेशन गर्म हवा और सर्दी के मौसम में ऑपरेशन सर्द हवा चलाती है. हर साल यह अभियान चलते हैं और इस दौरान सीमा पार कड़ी निगरानी रखी जाती है. जानकारी के अनुसार इन दिनों सीमावर्ती इलाकों में सर्दी का अत्यधिक असर देखने को मिलता है.

सर्दी के मौसम में देर रात से सुबह तक धुंध भी छा जाती है. इस धुंध का फायदा उठाकर कोई घुसपैठ न हो इसके लिए बीएसएफ की ओर से ऑपरेशन सर्द हवा के तहत कड़ी निगरानी की जाती है.  साथ ही इस बार अत्याधुनिक हथियारों के साथ पेट्रोलिंग की जाएगी. इसके साथ ही ऑपरेशन सर्द हवा में सीमा से सटी पुलिस की चौकियां भी विशेष निगरानी रखेगी.

सीमा क्षेत्र में तारबंदी के निकट बीएसएफ के अधिकारी वाहनों के माध्यम से लगातार पेट्रोलिंग करेंगे.  इस दौरान केमल पेट्रोलिंग भी बढ़ा दी जाती है. आम दिनों में होने वाली पेट्रोलिंग व गश्त से अधिक ऑपरेशन सर्द हवा में यह प्रक्रिया की जाती है. इसके अलावा खुर्रा चैकिंग भी इस दौरान तेज कर दी जाती है.

जानकारी के अनुसार ऑपरेशन सर्द हवा के दौरान सीमा पर बीएसएफ की इंटेलीजेंसी विंग भी सक्रिय रहती है. इसके अलावा अन्य खुफिया एजेंसियों से भी बीएसएफ का तालमेल रहता है और हर एक संदिग्ध गतिविधि पर नजर रखी जाती है. बीएसएफ में हैडक्वार्टर पर कार्यरत जवानों व अधिकारियों को इस ऑपरेशन के तहत सीमा चौकियों पर लगाया जाएगा. सीमा चौकियों पर सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाने के साथ पेट्रोलिंग व गश्त भी बढ़ाई जाएगी. जिससे धंुध का सहारा लेकर कोई घुसपैठ ना हो.