राजस्थान: परिजनों से बिछड़े बच्चों को लिए रेलवे ने कसी कमर, चलाई खास मुहिम

उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी की मानें तो आरपीएफ पुलिस के द्वारा गुम हुए बच्चों और वृद्ध जनों को मिलाने के लिए निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं.

राजस्थान: परिजनों से बिछड़े बच्चों को लिए रेलवे ने कसी कमर, चलाई खास मुहिम
रेलवे प्रशासन के द्वारा 380 से अधिक बच्चों को उनके परिजन या एनजीओ को सुपुर्द किया गया है.

दामोदर प्रसाद/जयपुर: उत्तर-पश्चिम रेलवे के द्वारा यात्रियों को बेहतर सुविधा मिल सके इसके लिए निरंतर प्रयास किए जाते हैं. वहीं, रेलवे प्रशासन के साथ ही रेलवे पुलिस भी अब स्टेशनों पर यात्रियों की सुविधाओं को लेकर एलर्ट हो गई है. रेलवे स्टेशन पर आए दिन बच्चों के गुम हो जाने और वृद्ध जनों इधर उधर भटक जाने की सूचना आती है. जिसको लेकर अब आरपीए प्रशासन के द्वारा एक विशेष अभियान भी चलाया जा रहा है.

उत्तर पश्चिम रेलवेके मुख्य जनसंपर्क अधिकारी अभय शर्मा की मानें तो आरपीएफ पुलिस के द्वारा गुम हुए बच्चों और वृद्ध जनों को मिलाने के लिए निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं. शर्मा के अनुसार इस वित्तीय वर्ष की बात की जाए तो इस वित्तीय वर्ष में उत्तर पश्चिम रेलवे प्रशासन के द्वारा 380 से अधिक बच्चों को उनके परिजन, पुलिस या एनजीओ को सुपुर्द किया गया है.

वहीं, बच्चों के स्टेशनों पर गुम होने को लेकर किसी अनजान व्यक्ति पर निगरानी रखने के लिए रेलवे सुरक्षा बल सतर्क है. इसके साथ ही सीपीआरओ अभय शर्मा ने यात्रियों से अपील करते हुए कहा कि यदि किसी को कोई लावारिस बच्चा या कोई संदिग्ध व्यक्ति दिखता है, वह टोल फ्री नंबर 182 पर रेलवे सुरक्षा बल को इस बारे में सूचना भी दे सकता है.

इसके साथ ही, कई बार ट्रेनों में आमजन को काफी परेशानी होती है. उन्हें मेडिकल सुविधा नहीं मिल पाती, लेकिन रेलवे प्रशासन द्वारा अब ट्रेनों के अंदर मेडिकल व्यवस्था सुचारू रूप से कार्य करने के लिए विशेष व्यवस्था की गई है. उत्तर पश्चिम रेलवे के सीपीआरओ अभय शर्मा के अनुसार इस वित्तीय वर्ष के अंतर्गत कुल 70 से अधिक मरीजों को ट्रेन के अंतर्गत मेडिकल सुविधा दी गई है. जिसकी वजह से कई यात्रियों की जान भी बचाई जा चुकी है.

रेलवे प्रशासन के द्वारा यात्रियों की सुविधाओं को देखते हुए यात्री बूथ का संचालन भी किया गया है. सीपीआरओ ने बताया कि रेल प्रशासन द्वारा उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य स्टेशनों पर यात्री बूथ चालू किया है. इसके अंतर्गत कुल अभी तक 60000 से अधिक लोगों ने अपनी अलग-अलग समस्याओं को लेकर वहां से जानकारी प्राप्त की है. जिससे उन्हें काफी सहायता भी मिली है.