कोटा: बच्चों की मौत पर राजनीतिक हलचल तेज, राजेंद्र राठौड़ और कालीचरण सर्राफ ने किया दौरा

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पुनिया के निर्देश पर सोमवार को दो पूर्व चिकित्सा मंत्री जेके लोन अस्पताल पहुंचे.   

कोटा: बच्चों की मौत पर राजनीतिक हलचल तेज, राजेंद्र राठौड़ और कालीचरण सर्राफ ने किया दौरा
पूर्व चिकित्सा मंत्री राजेन्द्र राठौड़

कोटा: जेके लोन अस्पताल में दो दिन में 10 बच्चों की मौत का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पुनिया के निर्देश पर सोमवार को दो पूर्व चिकित्सा मंत्री जेके लोन अस्पताल पहुंचे. 

काली चरण सराफ और राजेन्द्र राठौड़ के जेके लोन अस्पताल पहुंचने पर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने हंगामा किया. कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने दोनों नेताओं को जेके लोन अस्पताल में जाने से रोकने का प्रयास किया. इस दौरान कार्यकर्ताओं ने बच्चों की मौत पर सियासत करने का आरोप लगाते हुए राजेन्द्र राठौड़ का घेराव किया. 

बच्चों की मौत पर राजनीतिक हलचल तेज हो रही है. बीजेपी ने इस मुद्दे पर सरकार को घेरने में जुटी है. प्रदेशाध्यक्ष और पूर्व मन्त्रियों के बाद बीजेपी की आधा दर्जन महिला सांसदों का प्रतिनिधिमंडल पीड़ित परिजनों से मुलाकात करने कोटा जाएगा. सासंद रीता बहुगुणा जोशी, जसकौर मीणा और सुनिता दुग्गल समेत आधा दर्जन महिला सांसद हालात का जायजा लेकर पार्टी को इस मामले पर रिपोर्ट देंगी. 

इस दौरान पूनिया ने सरकार पर निशान साधते हुए कहा की सरकार के किसी भी नुमाइंदे ने अस्पताल पहुंचकर हालातों का जायजा नहीं लिया. जबकि आस पास क्षेत्र के बीजेपी के 5 विधायकों ने अस्तपताल के हालात सुधारने के लिए अपने कोटे से 50 लाख रूपए देने का ऐलान किया. पूनियां ने कोटा उत्तर के विधायक और यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल के भी कोटा अस्पताल नहीं पहुंचने पर सवाल उठाये.

गौरतलब है कि लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला कोटा के जेके लोन अस्पताल को दौरा किया. साथ ही, अस्पताल के हर हिस्से का दौरा करने के बाद ओम बिरला ने अस्पताल प्रबंधन को कई निर्देश भी दिए.

कोटा के बूंदी सांसद और लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि वह बच्चों की मौतों पर बेहद गंभीर हैं. ओम बिरला ने  JK लोन अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड से लेकर NICU वार्ड का जायज़ा लिया. वहीं, अस्पताल के हर हिस्से का दौरा कर अस्पताल प्रबंधन को निर्देश दिए.