close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा: दो आदमी - एक आधार, कैसे पड़े पार, पहचान की जगह आफत बना आधार कार्ड

एक ही नंबर के दोनों आधार कार्ड में दोनों पीड़ितों के मोबाइल नंबर (Mobile Number) एक दम सही हैं यानी एक आधार कार्ड में लालचंद का और दूसरे में शंकर सिंह का मोबाइल नंबर अंकित है लेकिन दोनों के आधार कार्ड पर एक ही यूनिक आईडी नंबर 9942 4399 3085 अंकित हैं.  

कोटा: दो आदमी - एक आधार, कैसे पड़े पार, पहचान की जगह आफत बना आधार कार्ड
एक नंबर का आधार दोनों को बैंक अकाउंट के संबंध में मुसीबत में डाल रहा है.

मुकेश सोनी, कोटा: लोगों की पहचान के साथ राहत देने के लिए बनाए गए आधार कार्ड (Aadhaar Card) दो लोगों की परेशानी का कारण बने हुए हैं. एक ही नंबरों के दो-दो आधार कार्ड (Aadhaar Card) होने से अगर एक व्यक्ति पैसा निकालता है तो निकासी दूसरे के खाते से हो रही है. दोनों कार्ड में अलग-अलग फोटो लगे हैं पर पता, नाम और जन्मतिथि सहित यूनिक नंबर तक एक हैं. 

इसके अलावा हैरानी की बात ये है कि एक ही नंबर के दोनों आधार कार्ड में दोनों पीड़ितों के मोबाइल नंबर (Mobile Number) एक दम सही हैं यानी एक आधार कार्ड में लालचंद का और दूसरे में शंकर सिंह का मोबाइल नंबर अंकित है लेकिन दोनों के आधार कार्ड पर एक ही यूनिक आईडी नंबर 9942 4399 3085 अंकित हैं.

8 साल से हो रहे परेशान
पीड़ित लालचंद बूंदी किले के बरुधन के रहने वाले हैं, जो फिलहाल कोटा (Kota) में रहकर थर्मल में ठेका श्रमिक के रूप में काम करते हैं. लालचंद ने 2011 में आधार कार्ड के लिए अप्लाई किया था. वहीं शंकर सिंह चुतरा का खेड़ा तहसील, के पाटन जिला बूंदी के निवासी हैं. शंकर ने भी 2011 में आधार कार्ड के लिए अप्लाई किया था. 

दोनों के आधार कार्ड (Aadhaar Card) में एक ही यूनिक नंबर होने से दोनों व्यक्ति पिछले 8 साल से परेशान हो रहे हैं. एक नंबर का आधार दोनों को बैंक अकाउंट के संबंध में मुसीबत में डाल रहा है. कुछ महीने पहले शंकर सिंह के खाते से 4 हजार रुपये कट गए, जब इस बारे में बैंक से पता किया तो मामले का पटाक्षेप हुआ. शंकर सिंह को लालचंद के बारे में पता चला और दोनों एक-दूसरे से मिले. शंकर सिंह के खाते में 4 हजार रुपये वापस आ गए. अब उसने बैंक अकाउंट और एटीएम बंद करवाया है.  

शंकर का कहना है कि उसने दो बार आधार कार्ड (Aadhaar Card) को अपडेट करवाया लेकिन शंकर के फिंगर प्रिंट नहीं लिए. आधार कार्ड में लालचंद का फिंगर प्रिंट आ रहा है. दोनों अलग-अलग समय पर दिल्ली तक चक्कर काटकर आ गए लेकिन समस्या का समाधान नहीं हुआ. सरकारी दफ्तरों के चक्कर काटने के बाद दोनों ही साथ मिलकर इस गलती को सुधरवाने के लिए सरकारी दफ्तरों के चक्कर काटने को मजबूर हैं.