राजस्थान: घर में होगा शौचालय तभी बन पाएंगे सरपंच, जानिए पूरा मामला...

पंचायतीराज चुनाव में सरपंच पद के प्रत्याशी की चुनाव खर्च सीमा में 30 हजार रुपए बढ़ोतरी की गई है.

राजस्थान: घर में होगा शौचालय तभी बन पाएंगे सरपंच, जानिए पूरा मामला...
पंचायत चुनाव में सभी उम्मीदवारों के लिए घर में शौचालय की अनिवार्यता रहेगी.

जयपुर: पंचायत चुनाव को लेकर राजस्थान में बड़े स्तर पर तैयारियां तेज हो चुकी है, लेकिन चुनाव में वे ही उम्मीदवारी पेश कर सकेंगे, जिनके घर में चालू हालात में शौचालय है. घर का कोई भी सदस्य में खुले में शौच के लिए नहीं जाता. इसके लिए बाकायदा शपथ पत्र पेश करना होगा. यदि इस नियम का उल्लंघन पाया गया तो उम्मीदवार का नामांकन पत्र खारिज कर दिया जाएगा.

इसको लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने आदेश जारी कर दिया. राज्य निर्वाचन आयोग की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि पंचायत चुनाव के नियमों के मुताबिक पंच, सरपंच, पंचायत समिति व जिला परिषद चुनाव में उतरने वाले सभी उम्मीदवारों के लिए घर में शौचालय की अनिवार्यता रहेगी. इसके लिए नामांकन के साथ अण्डरटेकिंग भी देनी होगी. जिसमें लिखा जाएगा कि उनके घर में शोचालय है, जिसकी तीन दीवारे और एक दरवाजे के साथ छत है. इसी तरह परिवार के सदस्य पत्नी, बच्ची व अन्य व्यक्ति जो साथ रहते हैं, उनमें से कोई भी खुले में शौच के लिए नहीं जाता है. इन सभी शर्तों पर ही उम्मीदवार की दावेदारी को वैद्य माना जाएगा.

उधर, पंचायत चुनाव में सरपंच पद के प्रत्याशी की चुनाव खर्च सीमा में 30 हजार रुपए बढ़ोतरी की गई है. अब सरपंच का चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशी 50 हजार रुपए तक खर्च कर सकेंगे. वर्ष 2014 में हुए चुनाव में 20 हजार रुपए खर्च निर्धारित था. जिला परिषद सदस्य के लिए खर्च सीमा 80 हजार थी, जिसे बढ़ाकर डेढ़ लाख कर दिया गया है. 

वहीं, पंचायत समिति सदस्य के लिए 40 हजार खर्च निर्धारित था, जिसे बढ़ाकर 75 हजार कर दिया गया है. प्रत्याशियों को परिणाम की घोषणा के 15 दिन के भीतर अपने खर्च की जानकारी संबंधित जिला निर्वाचन अधिकारी को देनी होगी. चुनाव खर्च में गड़बड़ी की शिकायत भी की जांच कराई जाएगी. प्रत्याशियों को चुनाव में लाउड स्पीकर उपयोग के लिए निर्वाचन अधिकारी की लिखित अनुमति लेनी होगी. लाउडस्पीकर का प्रयोग रात 10 से सुबह 6 बजे तक प्रतिबंधित रहेगा. नामांकन के एक दिन पहले पंचायत चुनाव के लिए जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा लोकसूचना जारी की जाएगी. ग्राम पंचायत स्तरीय रिटर्निंग अधिकारी, जोनल मजिस्ट्रेट एवं मतदान अधिकारी संबंधित पंचायत में पहुंचेंगे. सुबह 10:30 से शाम 4:30 बजे तक नाम पंच-सरपंच के लिए नाम निर्देशन पत्र प्रस्तुत किए जा सकेंगे. दूसरे दिन नाम निर्देशन पत्रों की जांच की जाएगी.

पंच-सरपंच के चुनाव की घोषणा के साथ ही गांवों में चुनावी रंग जमने लगा है. शाम ढलते ही गांव की चौपाल पर अलाव के सहारे चुनावी शफूगे छोडे जा रहे हैं. युवा इस बार गांव का विकास करवाने वाले पढे-लिखे उम्मीदवार को ही चुनने की बात करते नजर आ रहे हैं. सोशल मीडिया पर भी सरपंच कुर्सी को लेकर जोरदार अटकले आ रहे हैं.