Chittorgarh: भक्तों ने श्री सांवलिया सेठ को भेंट किए चांदी के बेशकीमती रथ और गेंहू

दोनों भक्तों ने मंदिर मंडल के भेंट कक्ष कार्यालय में पहुंच कर यह भेंट करते हुए रसीद प्राप्त की. 

Chittorgarh: भक्तों ने श्री सांवलिया सेठ को भेंट किए चांदी के बेशकीमती रथ और गेंहू
दोनों भक्तों ने मंदिर मंडल के भेंट कक्ष कार्यालय में पहुंच कर यह भेंट करते हुए रसीद प्राप्त की.

Chittorgarh: मेवाड़ (Mewar) के सुप्रसिद्ध कृष्ण धाम सांवलियाजी में भगवान श्री सांवलिया सेठ (Sri Sanwaliyaji Seth) को एक भक्त ने 407 ग्राम चांदी से निर्मित एक रथ तथा एक दूसरे भक्त ने 107 ग्राम चांदी से निर्मित गेहूं के दाने भेंट किए.

मंगलवार को इंदौर (Indore) मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के श्रृद्धालु ने 407 ग्राम चांदी का रथ तथा चित्तौड़गढ़ (Chittorgarh) जिले के बड़ी सादड़ी के श्रृद्धालु ने 107 ग्राम चांदी के गेहूं के दाने भेंट किए.

यह भी पढ़ें- Shri Sanwaliya Seth के दानपात्र से निकले इतने ज्यादा नोट, गिनते-गिनते थक गए लोग!

 

दोनों भक्तों ने मंदिर मंडल के भेंट कक्ष कार्यालय में पहुंच कर यह भेंट करते हुए रसीद प्राप्त की. मंदिर मंडल के द्वारा दोनों श्रद्धालुओं को ऊपरना पहना कर तथा भगवान श्री सांवलिया सेठ का प्रसाद भेंट कर सम्मानित किया गया.

चढ़ावे में नहीं आई कोई कमी
बता दें कि सुप्रसिद्ध श्री सांवलिया मंदिर में भगवान को भक्त अपना बिजनेस पार्टनर मानते हैं और आए दिन दिल खोलकर भगवान को चढ़ावा चढ़ाते हैं. कोरोना काल (Korona) में भी चितौड़गढ़ के सुप्रसिद्ध श्री सांवलिया मंदिर (Shree Sanwaliya Temple) के भंडारे में कमी के बजाए भंडार भरता ही जा रहा है. श्रद्धालु इसे श्री सांवलिया सेठ का चमत्कार मान (Sanwaliya Seth's Miracle Value) रहे हैं. 

इस बार भी कोरोना (Korona) के चलते मंदिर प्रबंधन ने कोविड गाइडलाइन (Covid Guideline)का पालन करते हुए मंदिर में भीड़-भाड़ ना हो इसके लिए तमाम इंतजाम किए, बावजूद चढ़ावे में कोई कमी नहीं नहीं आईं. उल्टे भंडारे में भारी मात्रा में नकद राशि और सोना चांदी मिली (Received cash and gold silver) थी. 

Reporter - Deepak vyas