बालाकोट हमले में मारे गए 250 आतंकवादियों पर बोले वी.के.सिंह, 'वह वास्तविक आंकड़ा नहीं था'

वी.के.सिंह ने कहा 'हमने अनुमान लगाया कि 250 मोबाइल उपयोगकर्ता आतंकवादी थे. हमने अनुमान लगाया कि 250 आतंकवादी मारे गए'

बालाकोट हमले में मारे गए 250 आतंकवादियों पर बोले वी.के.सिंह, 'वह वास्तविक आंकड़ा नहीं था'
वी.के. सिंह ने कहा पाकिस्तान कभी भी भारत का दोस्त नहीं बन सकता

जयपुर: विदेश राज्य मंत्री जनरल(सेवानिवृत्त) वी.के. सिंह ने शनिवार को कहा कि पाकिस्तान कभी भी भारत का दोस्त नहीं बन सकता है. जयपुर में भाजपा मुख्यालय में एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, 'अगर भारत कभी भी पाकिस्तान को अपना दोस्त मानेगा तो यह भारत की सबसे बड़ी कमजोरी होगी'.

सिंह ने कहा, 'मुझे बताया गया है कि राजस्थान के सीमावर्ती क्षेत्र के एक विपक्षी उम्मीदवार ने दावा किया है कि पाकिस्तान भारत के लिए खतरा नहीं है और इसलिए इसके साथ दुश्मन राष्ट्र की तरह व्यवहार नहीं करना चाहिए'.

सिंह ने कहा, 'लेकिन जो देश आतंकवाद का केंद्र होने के अलावा भारत के खिलाफ छद्म युद्ध करता है, उसे कभी भी दोस्त की तरह नहीं माना जा सकता. पाकिस्तान को दोस्त मानना, भारत की सबसे बड़ी कमजोरी होगी'.

भाजपा नेता ने कहा कि राजस्थान के लोग देश के फायदे और भविष्य सुरक्षित करने के लिए केंद्र में एक मजबूत और स्थिर सरकार चाहते हैं. उन्होंने कहा, 'मैंने राजस्थान की जोधपुर, बाड़मेर, उदयपुर और राजसमंद संसदीय क्षेत्रों का दौरा किया है. मैं उस अंडरकरंट को महसूस कर सकता हूं, जो मैंने उत्तरप्रदेश में महसूस किया था'.

उन्होंने कहा, 'कांग्रेस कहती है कि भाजपा सशस्त्र सेनाओं का राजनीतिकरण करती है. एक पूर्व सैनिक होने के नाते मैं यह विश्वास से कह सकता हूं कि भारतीय जवान कभी भी राजनीति में नहीं फंसते हैं'.

सिंह ने कहा, 'हमारे देश के जवान ईमानदारी से अपना कर्तव्य निभाते हैं और सरकार केवल उनके साहस की प्रशंसा करती है. अगर उनकी बहादुरी और साहस की प्रशंसा करना राजनीतिकरण करना है तो, इसका मतलब है कि कांग्रेस को पता नहीं है कि राजनीतिकरण क्या होता है'.

बालाकोट हवाई हमले में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के 250 आतंकवादियों के मारे जाने के दावे पर टिप्पणी करते हुए सिंह ने कहा, 'वह वास्तविक आंकड़ा नहीं था, बल्कि विभिन्न रिपोर्टों के आधार पर अनुमानित आंकड़ा था'.

उन्होंने कहा, 'नेशनल टेक्निकल रिसर्च ऑर्गनाइजेशन(एनटीआरओ) के अनुसार, जब हवाई हमला हुआ था, क्षेत्र में करीब 300 फोन सक्रिय थे. हमने अनुमान लगाया कि 250 मोबाइल उपयोगकर्ता आतंकवादी थे. हमने अनुमान लगाया कि 250 आतंकवादी मारे गए'.