सिंघु बॉर्डर हत्याकांड: जिस हाथ से दलित ने छुआ 'सर्बलोह ग्रंथ', निहंगों ने उसे काट डाला
X

सिंघु बॉर्डर हत्याकांड: जिस हाथ से दलित ने छुआ 'सर्बलोह ग्रंथ', निहंगों ने उसे काट डाला

Lakhbir Singh Lynching Case: दलित युवक लखबीर सिंह को निहंगों के टेंट की सफाई और उनके कपड़े धोने का काम दिया गया था. इसके लिए उसे खाना और रहने की जगह दी गई थी.

सिंघु बॉर्डर हत्याकांड: जिस हाथ से दलित ने छुआ 'सर्बलोह ग्रंथ', निहंगों ने उसे काट डाला

नई दिल्ली: देश की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और हरियाणा की सीमा सिंघु बॉर्डर (Singhu Border) पर बीते शुक्रवार को एक दलित युवक लखबीर सिंह (Lakhbir Singh) की हत्या (Murder) कर दी गई थी. उसके हाथ और पैर को काट दिया गया था. सिंघु बॉर्डर पर चल रहे प्रदर्शन में शामिल एक शख्स ने ज़ी न्यूज़ को Exclusive जानकारी देते हुए बताया कि इसी साल जून महीने में मृतक लखबीर सिंह सिंघु बॉर्डर प्रदर्शनस्थल पर आया था.

निहंगों की सेवा करता था मृतक लखबीर सिंह

उसने बताया कि मृतक लखबीर सिंह निहंगों के साथ ही उनके टेंट में रहता था. निहंगों ने लखबीर सिंह को टेंट की साफ सफाई और उनके कपड़े धुलने का का काम दिया था. बदले में उसके रहने और खाने-पीने का इंतजाम निहंग करते थे.

ये भी पढ़ें- केरल में भारी बारिश से तबाही: 9 की मौत, 12 लोग लापता; कई जिलों में रेड अलर्ट

वारदात वाले दिन क्या हुआ था?

बीते 14-15 अक्टूबर की दरमियानी रात में जब लखबीर सिंह निहंगों के सोने से पहले साफ-सफाई कर रहा था तो वो निहंगों के टेंट में रखे 'सर्बलोह ग्रंथ' को उसकी जगह से हटा कर वहां की सफाई करने लगा.

ये देख कर भड़क गए निहंग

जान लें कि लखबीर सिंह जब सफाई कर रहा था तब सर्बलोह ग्रंथ जमीन पर उसके पैर के पास था. इतने में एक निहंग टेंट के अंदर आया और उसने ये देखने के बाद लखबीर सिंह को मारा पीटा और उस पर सर्बलोह ग्रंथ का अपमान करने का आरोप लगाया.

ये भी पढ़ें- कश्मीर में आतंकियों का खूनी खेल जारी, गैर कश्मीरियों को ऐसे बना रहे निशाना

इतने में कई और निहंग आ गए और जैसे ही उन्हें पता चला कि लखबीर सिंह ने सफाई के लिए सर्बलोह ग्रंथ को जमीन पर अपने पैर के पास रखा था. उन्होंने भी लखबीर सिंह को पीटना शुरू कर दिया. जिसके बाद लखबीर सिंह ने भागने की कोशिश की लेकिन उसे पकड़ लिया गया और उसके हाथ-पैर बांध कर निहंग जत्थेदार अमनदीप सिंह और बाबा नारायण सिंह के सामने पेश किया गया.

जहां अमनदीप सिंह और बाबा नारायण सिंह ने निहंगों के समूह के साथ लखबीर सिंह से पूछताछ करने के बाद उसका हाथ जिससे लखबीर सिंह ने सर्बलोह ग्रंथ छुआ था और पैर जिसके पास सर्बलोह ग्रंथ रखा देखा गया था, उसे काटने का हुक्म सुना दिया.

LIVE TV

Trending news