close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अलीगढ़: आलू प्लांट का कचरा खाने से 9 गायों की मौत, गुस्से में लोग

थाना इगलास क्षेत्र के महुआ स्थित निशांत आलू प्लांट की फैक्ट्री से बाहर फेंके गए जहरीले कचरे को खाने से नौ गायों की मौत हो गई है. 

अलीगढ़: आलू प्लांट का कचरा खाने से 9 गायों की मौत, गुस्से में लोग
गायों को लेकर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ काफी गंभीर माने जाते हैं, ऐसे में गायोंं की मौत सवाल खड़े करते हैं.

अलीगढ़: उत्तर प्रदेश सरकार गायों की देखभाल के लिए राज्य के लोगों से अतिरिक्त टैक्स ले रही है, लेकिन अलीगढ़ के थाना इगलास क्षेत्र में घटी घटना ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं. यहां प्रशासन की लापरवाही के चलते गायों की मौत हुई है. थाना इगलास क्षेत्र के महुआ स्थित निशांत आलू प्लांट की फैक्ट्री से बाहर फेंके गए जहरीले कचरे को खाने से नौ गायों की मौत हो गई है. पशु चिकित्सकों के प्रयास से कई गायों को बचाया जा सका है. घटना से गुस्साए लोगों ने हंगामा किया. पुलिस ने गायों का पोस्टमार्टम कराकर दफना दिया है. 

लोगों के गुस्से को दिखते हुए पुलिस ने फैक्ट्री मालिक के खिलाफ इगलास कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज की है. हालांकि अभी तक उसे गिफ्तार नहीं किया गया है. 

ये भी पढ़ें: यूपी के हमीरपुर में ट्रेन से कटकर 36 गायों की मौत, मचा हड़कंप

पिछले साल दिसंबर में इगलास थाना क्षेत्र में ही गायों को लेकर बवाल हुआ था. दरअसल, इलाके में आवारा गोवंश की बहुतायत होने के चलते फसलों की काफी बर्बादी हो रही थी. स्थानीय लोगों ने गायों को सरकारी भवनों में बंद करना शुरू कर दिया था, जिसके बाद प्रशासन ने कई लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था.

ये भी पढ़ें: गाय के नाम पर वोट मांगना और राजनीति करना 'पाप' है: अरविंद केजरीवाल

इसी बीच खबर आई थी कि इगलास क्षेत्र में ही किसी ने जिंदा गाय को दफना दिया था. स्थानीय लोगों ने गाय को बाहर निकाला और पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन किया था. छह थानों का फोर्स व पीएसी लेकर पहुंचे अफसरों ने बमुश्किल हालात संभाले थे. दफनाई गई 11 मृत गायों के पास बेसुध पड़ीं छह जिंदा गोवंश को अस्पताल भेजा गया, जिसमें एक की मौत हो गई. 

ये भी पढ़ें: राजस्थान: भूख, प्यास और सर्दी ने ली आधा दर्जन गायों की जान

पुलिस ने जाम-प्रदर्शन के इल्जाम में महिला समेत तीन को हिरासत में लिया, बाद में उन्हें छोड़ दिया गया. जिले के आधा दर्जन सरकारी स्कूलों व अस्पतालों में फिर पशु बंद कराए गए. पुलिस ने इनके खिलाफ भी रिपोर्ट दर्ज की है. अब फैक्ट्री का कचरा खाने गायों की हुई मौत पर इलाके के लोगों में काफी गुस्सा है.