अलीगढ़ः नौशाद खां, जिन्होंने अपनी 2000 वर्गमीटर जमीन पर बनाया बेसहारा गायों के लिए बसेरा

गौशाला में तकरीबन 100 गायों के रहने की व्यवस्था की गई है, गायों की देखभाल के लिए 4 क्विंटल चारा, बिजली, पानी की भी व्यवस्था नौशाद खां ने अपनी तरफ से कराई है.

अलीगढ़ः नौशाद खां, जिन्होंने अपनी 2000 वर्गमीटर जमीन पर बनाया बेसहारा गायों के लिए बसेरा
गौशाला में तकरीबन 100 गायों के रहने की व्यवस्था की गई है

(खालिद मुस्तफा)/अलीगढ़: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की बेसहारा गायों को सहारा देने की मुहिम से अलीगढ़ के रहने वाले नौशाद खां बेहद प्रेरित हुए हैं, जिसके चलते उन्होंने अलीगढ़ में घूम रही आवारा गायों की सेवा और रक्षा करने के लिए अब अपने जीवन को समर्पित करने का लक्ष्य बनाया है. बता दें छर्रा क़स्बे में रहने वाले नौशाद खां ने बेसहारा गायों के सहारे के लिए अपनी 2000 वर्गमीटर जमीन पर गोशाला बनाई है. इस गौशाला में तकरीबन 100 गायों के रहने की व्यवस्था की गई है, गायों की देखभाल के लिए 4 क्विंटल चारा, बिजली, पानी की भी व्यवस्था नौशाद खां ने अपनी तरफ से कराई है.

अलीगढ़: गाय-बछड़ों से परेशान किसानों के लिए राहत, 7500 गोवंश के लिए जल्द बनेगी गोशाला

अलीगढ़ के छर्रा क़स्बे में रहने वाले नौशाद खां नगर पंचायत चेयरमैन रईसो जुमानी के पति हैं. जिला अधिकारी ने निर्देश दिए थे कि सभी नगर पंचायतों में गौशालाओं का निर्माण किया जाए. छर्रा नगर पंचायत में गौशाला के लिए जमीन न मिलने के कारण नौशाद खां ने अपनी ही 2000 वर्गमीटर जमीन गायों के लिए मुफ्त में दी है. नगर पंचायत के अधिशासी अधिकारी नरेश सिंह के मुताबिक नौशाद खां की ज़मीन पर अस्थाई गौशाला बनाई गई है और नगर पंचायत के कर्मचारी बेसहारा घूमने वाली गायों को पकड़ कर नौशाद खां की अस्थाई गौशाला में रखेंगे. 

सवर्ण परिषद के प्रचारक ने पुलिस को दी धमकी, गौरक्षकों के खिलाफ मुकदमे वापस लिए जाएं

अधिशासी अधिकारी ने बताया कि नौशाद खां की तरफ से 4 कुंटल भूसा और बिजली, पानी की भी व्यवस्था मुफ्त में की गई है. नौशाद खां की इस पहल से मुस्लिम समुदाय के लोगों के साथ-साथ हिंदू समुदाय के लोग नौशाद की  सराहना कर रहे हैं. अगर लोग इसी तरह बन जाये तो अवारा घूमने वाली गायों को अपना आशियाना मिल गया है ,नौशाद खां ने अपनी ही 2000 वर्गमीटर जमीन गायों के लिए मुफ्त में दी है,अगर ऐसे लोग मआशरे में होजाये तो सरकार की तरफ़ से मिलने वाली इमदाद से गौशालाओं की ज़रूरत ही न हो इसके के लिये सभी मज़ाहिब के लोगों को आगे आने की ज़रूरत है.