जब पीयूष गोयल बजट पेश कर रहे थे तो राहुल गांधी के चेहरे पर हवाइयां उड़ रही थीं: अमित शाह

अमित शाह ने बूथ कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि देश की सुरक्षा में बर्फीले पहाड़ों पर तैनात जवान ओआरओपी की मांग कर रहे थे लेकिन कांग्रेस इसे 70 वर्षों में भी नहीं दे सकी.

जब पीयूष गोयल बजट पेश कर रहे थे तो राहुल गांधी के चेहरे पर हवाइयां उड़ रही थीं: अमित शाह
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह (फाइल फोटो)

अमरोहा (उप्र): बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने शनिवार को 'वन रैंक वन पेंशन' (ओआरओपी) को नये ढंग से परिभाषित करते हुए कहा कि कांग्रेस के लिए यह ‘ऑनली राहुल, ऑनली प्रियंका' है.

अमित शाह ने बूथ कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि देश की सुरक्षा में बर्फीले पहाड़ों पर तैनात जवान ओआरओपी की मांग कर रहे थे लेकिन कांग्रेस इसे 70 वर्षों में भी नहीं दे सकी थी लेकिन मोदी सरकार ने इस मांग को एक ही वर्ष में पूरा कर दिया. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी का ओआरओपी है जवानों के लिए लेकिन कांग्रेस का वन रैंक वन पेंशन है ... 'ऑनली राहुल ऑनली प्रियंका.' 

'मोदी जवानों के लिए काम करते हैं'
अमित शाह ने कहा कि मोदी जवानों के लिए काम कर रहे हैं और वह (कांग्रेस) अपने परिवार के लिए काम कर रहे हैं जो अपने परिवार के लिए काम करते हैं, वे देश को आगे नहीं बढा सकते है.

उन्होंने शुक्रवार को लोकसभा में पेश अंतरिम बजट की सराहना करते हुए कहा, 'जब पीयूष गोयल जी बजट पेश कर रहे थे तो कांग्रेस अध्यक्ष (राहुल गांधी) के चेहरे पर हवाइयां उड़ रही थीं. हंसी गायब हो गई थी ... जैसे ही बजट सुना, उनको लगा कि अब नंबर नहीं लगने वाला है ... दलगत राजनीति से ऊपर उठकर प्रधानमंत्री जो रियायतें लेकर आये, वह (राहुल)उसका स्वागत नहीं कर पाये. इतना बडा दिल नहीं है उनके पास.’ अमित शाह इससे पहले कानपुर और लखनऊ में बूथ कार्यकर्ताओं को संबोधित कर चुके हैं.

उन्होंने कहा कि उनसे अक्सर पूछा जाता है कि 74 सीटें पार्टी कैसे जीतेगी. जनता देख सकती है कि एक करोड़ से अधिक कार्यकर्ता उत्तर प्रदेश के सभी बूथों पर फैले हैं.

'गठबंधन की चिंता मत कीजिए'
शाह ने सपा-बसपा गठबंधन पर कहा कि ये गठबंधन-गठबंधन करते हैं. गठबंधन की चिंता मत कीजिए, दो इकट्ठा हैं, और दो इकट्ठा हो जाएं या चार-पांच इकट्ठा हो जाएं ,बीजेपी की राज्य में 73 लोकसभा सीटें हैं, 74 होने वाली हैं, 72 नहीं होंगी.’ कार्यकर्ताओं के महत्व पर जोर देते हुए बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि नेता नहीं बल्कि कार्यकर्ता ही पार्टी की जीत सुनिश्चित कर सकते हैं.

सपा मुखिया अखिलेश यादव और बसपा प्रमुख मायावती पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, 'मैं मायावती और अखिलेश से पूछता हूं कि उत्तर प्रदेश के विकास के लिए कितना पैसा दिया था, उन्होंने तीन हजार 30 करोड़ रुपये दिये थे लेकिन मोदी सरकार बनने के बाद 10 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा धनराशि उत्तर प्रदेश के विकास के लिए दी गई है.’’ उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश से आज भूमाफिया भाग गये हें . भूमाफिया को रखने वाले यहां से भाग गये. बीजेपी सरकार में राज्य में कानून का राज स्थापित हो रहा है.

'देश की सुरक्षा न मायावती कर सकती हैं, न अखिलेश' 
बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि देश की सुरक्षा न मायावती कर सकती हैं, न अखिलेश और न ही रालोद प्रमुख अजित सिंह . देश की सुरक्षा सिर्फ मोदी सरकार कर सकती है.
अमित शाह ने कहा कि देश को चलाने के लिए और देश की सुरक्षा के लिए एक मजबूत नेता की जरूरत है और सिर्फ मोदी ही ये काम कर सकते हैं.

अमित शाह ने राम मंदिर पर कहा कि हम सभी चाह रहे हैं कि अयोध्या में राम जन्मभूमि पर जल्द से जल्द राम मंदिर का निर्माण हो. बीजेपी का निश्चय है कि मंदिर उसी स्थान पर बने लेकिन जब भी मंदिर की बात अदालत में होती है तो कांग्रेस के वकील उच्चतम न्यायालय पहुंच जाते हैं.

उन्होंने कहा,'मैं राहुल गांधी, मायावती और अखिलेश से पूछना चाहता हूं कि वे राम मंदिर पर क्या राय रखते हैं. वे जनता को यह कहते हुए चुनाव में जाएं कि वे उसी स्थान पर मंदिर बनाना चाहते हैं.'

(इनपुट - भाषा)