close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

शिवपाल के साथ मंच साझा करने पर BJP ने पूछा- अखिलेश जवाब दें अपर्णा किसके साथ हैं

सपा प्रवक्ता अमीक जमई ने कहा कि राजनीति में संबंध अलग नहीं होते.

शिवपाल के साथ मंच साझा करने पर BJP ने पूछा- अखिलेश जवाब दें अपर्णा किसके साथ हैं
सपा प्रवक्ता ने कहा कि 2019 में हम बीजेपी को मिलकर हराएंगे.

लखनऊ: मुलायम सिंह की छोटी बहू अपर्णा यादव द्वारा चाचा शिवपाल यादव के साथ मंच साझा करने के बाद उत्तर प्रदेश का राजनीतिक माहौल पूरी तरह बदल चुका है. इस मुलाकात को लेकर बीजेपी के प्रवक्ता मनीष शुक्ला ने कहा कि अब समाजवादी प्रमुख अखिलेश यादव को जवाब देना चाहिए कि, आखिरकार अपर्णा किसके साथ जा रही हैं. सपा द्वारा बार-बार यह कहे जाने पर कि कुछ पार्टी बीजेपी की बी टीम है. इन आरोपों को लेकर मनीष शुक्ला ने कहा कि आजकल यह फैशन हो गया है.

नेता और पार्टियां जब राजनीति में प्रासंगिक नहीं रह जाती हैं तो वे खुद को प्रासंगिक बनाने के लिए ऐसा बोलते हैं. साथ में उन्होंने यह भी कहा कि तमाम राजनीतिक दल बीजेपी के साथ हो रही है, क्योंकि जनता बीजेपी के साथ है.

Aparna Yadav share dias with Shivpal BJP slams Akhilesh Yadav

राम मंदिर को लेकर मायावती के हालिया बयान पर उन्होंने कहा कि मायावती हताश और निराश हो चुकी हैं. 2014 लोकसभा चुनाव में एक भी सीट पर जीत नहीं मिली. 2017 विधानसभा चुनाव में केवल 19 सीटें मिलीं. इसकी वजह से उनका हताश और निराश होना लाजिमी है. बता दें, मायावती ने अपने एक बयान में कहा है कि बीजेपी राम मंदिर भले ही बना ले, लेकिन 2019 में सरकार नहीं बना पाएगी.

मायावती के बयान के समर्थन में सपा प्रवक्ता अमीक जमई ने कहा कि मायावती का कहना बिल्कुल सच है. हम मायावती के साथ मिलकर 2019 के चुनाव में बीजेपी और RSS को हराएंगे. उन्होंने कहा कि हमारे नेता अखिलेश यादव लगातार कहते हैं कि जनता मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारे और चर्च जैसे निजी मामलों से तंग हो चुकी है. रोजगार नहीं है, महंगाई बढ़ गई है, तेल की कीमतें आसमान छू रही हैं.

Aparna Yadav share dias with Shivpal BJP slams Akhilesh Yadav
पार्टी अलग हो जाने से संबंध अलग नहीं होते हैं- सपा प्रवक्ता, अमीक जमई.

अमीक जमई ने कहा कि लड़ाई केवल दो पार्टियों के बीच है. सपा और बीजेपी. हमारी लड़ाई सीधे बीजेपी से है न कि उनकी बीट टीम से. अखिलेश यादव पहले ही कह चुके हैं कि चुनाव आते-आते बहुत कुछ खुलता जाएगा. नेताजी का बंगला चला गया, लेकिन अब जो बंगला मिला बीजेपी का राज खुल गया. उन्होंने कहा कि राजनीति में संबंध अलग नहीं होते. आखिरकार, मुलायम सिंह, अपर्णा यादव, शिवपाल और अखिलेश तो एक ही परिवार के हैं.

इन तमाम मुद्दों पर कांग्रेस प्रवक्ता बृजेंद्र सिंह ने कहा कि मायावती, अखिलेश सभी सच बोल रहे हैं. हम सभी मोदी सरकार के झूठे वादों से तंग आ चुके हैं. मायावती का बयान स्वागत करने योग्य है. वो जो कह रही हैं, वह जनता की आवाज है.