अयोध्या केस: मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी ने की CM योगी और PM मोदी की तारीफ

इकबाल अंसारी (Iqbal Ansari) ने गुरुवार को योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) सरकार के कार्यों की तारीफ की है. उन्होंने कहा कि योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) सरकार में कानून का राज है. प्रदेश की कानून व्यवस्था अच्छी है.

अयोध्या केस: मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी ने की CM योगी और PM मोदी की तारीफ
अयोध्या मामले में मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी ने सीएम योगी की तारीफ की है.

अयोध्या: विवादित स्थल को लेकर सुप्रीम कोर्ट में भले ही हिंदू और मुस्लिम पक्ष के बीच जबरदस्त तर्क-वितर्क चल रहा है, लेकिन बाबरी मस्जिद (Babri Masjid) के पक्षकार इकबाल अंसारी (Iqbal Ansari) ने उत्तर प्रदेश बीजेपी की अगुवाई वाली योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) की सरकार की तारीफ की है. इकबाल अंसारी (Iqbal Ansari) ने गुरुवार को योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) सरकार के कार्यों की तारीफ की है. उन्होंने कहा कि योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) सरकार में कानून का राज है. प्रदेश की कानून व्यवस्था अच्छी है. इतना ही नहीं इकबाल अंसारी (Iqbal Ansari) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी तारीफ की है. उन्होंने कहा कि दुनिया में पीएम मोदी ने देश का नाम ऊंचा किया है. दुनियाभर के लोग पीएम मोदी को पूछते हैं. इसी बहाने भारतीयों का भी सम्मान होता है. 

यहां आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई ने कहा है कि आयोध्या मामले की सुनवाई 17 अक्टूबर को समाप्त होगी. त्योहारों और राम जन्मभूमि मुद्दे पर अदालत का फैसला जल्द आने के मद्देनजर अयोध्या में अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती की जा रही है. अयोध्या को हाई अलर्ट पर रखा गया है और दस अतिरिक्त कंपनियों को शहर में तैनात किया जा रहा है. एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, 'ड्रोन के साथ दुर्गा पूजा और दशहरा के जुलूसों की निगरानी रखी गई. पूजा समिति से अनुरोध किया गया था कि वे जुलूसों के दौरान गुलाल का इस्तेमाल न करें. वे इसके बजाय फूलों की पंखुड़ियों का उपयोग कर सकते हैं.'

जिला प्रशासन ने अतिरिक्त बलों को ठहराने के लिए व्यवस्था करनी शुरू कर दी है. स्थानीय गेस्ट हाउस, धर्मशालाओं, स्कूलों और कॉलेजों का इस्तेमाल सुरक्षाबलों को ठहराने में किया जाएगा. नवरात्र के दौरान शुरू हुईं राम लीलाएं दीवाली तक जारी रहेंगी. राज्य सरकार की ओर से दिवाली की पूर्व संध्या पर आयोजित किए जा रहे तीन दिवसीय 'दीपोत्सव' कार्यक्रम में भी भीड़ उमड़ने की उम्मीद है.

जिला पुलिस और स्थानीय खुफिया इकाइयों को निर्देशित किया गया है कि वे सभी होटलों, गेस्ट हाउस, धर्मशाला, लॉज और होम स्टे की जांच शुरू करें और वहां काम करने और रहने वाले लोगों के परिचय पत्र का सत्यापन करें. यह खुफिया एजेंसियों द्वारा दी गई खतरे की सूचना के मद्देनजर किया जा रहा है. राम जन्मभूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला भी नवंबर में आने की उम्मीद है और स्थानीय प्रशासन सुरक्षा व्यवस्था में कोई कोताही नहीं बरतना चाहता.

सैकड़ों वर्षो से चला आ रहा राममंदिर विवाद खत्म हो : योगी 
उधर, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा है कि सैकड़ों वर्षो से चला आ रहा राम मंदिर विवाद खत्म किया जाना चाहिए, जिसके लिए न्यायालय लगातार सुनवाई कर रहा है. उन्होंने कहा कि सभी लोग न्यायालय के फैसले का सम्मान करेंगे. इस दौरान उन्होंने कहा, 'देश के विकास के लिए अयोध्या में राममंदिर पर निर्णय जरूरी है. सैकड़ों सालों से चल रहे एक विवाद का पटाक्षेप होना चाहिए. जिससे देश के प्रत्येक नागरिक के मन में विश्वास पैदा हो सके.'

अयोध्या पर विपक्ष को आड़े हाथों लेते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्ष सिर्फ नकारात्मक राजनीति करता है, और उसे विकास और जनकल्याणकारी कार्यो से कोई लेना-देना नहीं है.

योगी ने कहा कि 'पूर्ववर्ती सरकारों के कार्यकाल में अयोध्या में परम्पराओं को खत्म कर दिया गया था. अब अयोध्या में विदेशों से आए लोगों द्वारा रामलीला का मंचन किया जाता है. कई देशों के प्रतिनिधि इस कार्यक्रम में शिरकत करते हैं. हमारी सरकार पिछली बार की तरह इस बार भी वहां भव्य दीपोत्सव का कार्यक्रम आयोजित कर रही है. अबकी बार सरयू नदी के तट पर साढ़े पांच लाख से भी अधिक दीपों को जलाकर दीपावली का पर्व मनाया जाएगा.'