प्रयागराज के बाद, वो दिन दूर नहीं जब योगी सरकार मुसलमानों से कहेगी नाम बदलो: आजम खान

आजम खां ने कहा कि रामपुर का नाम नवाब ने शहर का नाम मुस्तुफाबाद रखा. लेकिन, शहर के मुसलमान खुले दिल के थे. इसलिए उन्होंने शहर का नाम 'राम' के नाम पर रामपुर रखा. 

प्रयागराज के बाद, वो दिन दूर नहीं जब योगी सरकार मुसलमानों से कहेगी नाम बदलो: आजम खान
फाइल फोटो

रामपुर: इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज रखे जाने को लेकर बड़ा बयान दिया है. योगी सरकार पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि सीएम योगी ईंद नहीं मनाते, इसलिए सरकार का अगला कदम फरमान होगा, कि 
मुस्लिम अपना नाम बदलें. बुधवार (17 अगस्त) को देर रात रामपुर पहुंचें आजम खां ने कहा कि रामपुर का नाम नवाब ने शहर का नाम मुस्तुफाबाद रखा. लेकिन, शहर के मुसलमान खुले दिल के थे. उन्होंने राम और 
मुस्तुफाबाद में फर्क नहीं किया और मैज्योरिटी होने के बाद भी रामपुर को मुस्तफाबाद नहीं कहा गया. 

उन्होंने कहा कि कभी किंग जॉर्ज मेडिकल कालेज का भी नाम बदला था लेकिन पूरी दुनिया मे इसका इसमे विरोध हुए और उसका नाम किंग जॉर्ज ही रहा. योगी सरकार पर निशाना सादते हुए उन्होंने कहा कि नाम को बदकर यूपी सरकार अपने मंसूबों को बयां कर रही है. उन्होंने कहा कि नाम ऐसी चीज है, जो दिलों पर लिखी होती है. सरकार पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि वो दिन दूर नहीं जब सरकार ये कहेगी कि मुसलमान अपने नाम भी बदलें.

इस दौरान उन्होंने बाबरी मस्जिद का मुद्दा भी उठाया. उन्होंने कहा कि सपा नेता होने के नाते हम कह रहे है कि राम मंदिर बनना चाहिए. उन्होंने कहा कि अगर बाबरी मस्जिद को गिराया जा सकता है, तो ताजमहल को भी गिराया जा सकता है. उन्होंने कहा कि बाबरी मस्जिद को गिराकर राम मंदिर अगर बन सकता है, तो ताजमहल तोड़कर शिव मंदिर भी बनाया जा सकता है. 

आपको बता दें कि बीते दिनों ही योगी कैबिनेट ने इलाहाबाद का नाम प्रयागराज करने के प्रस्ताव पर अपनी मुहर लगाई है. उधर, इस फैसले के बाद से ही प्रमुख विपक्षी दल समाजवादी पार्टी और कांग्रेस लगातार विरोध कर रही हैं.