मांगी मजदूरी तो 7 महीने प्रेग्नेंट महिला को बेरहमी से पीटा, नहीं बच पाया बच्चा

पीड़ितों की शिकायत पर थाना मोतीपुर में पुलिस ने एससी/एसटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है और मामले की जांच शुरू कर दी है.

मांगी मजदूरी तो 7 महीने प्रेग्नेंट महिला को बेरहमी से पीटा, नहीं बच पाया बच्चा

राजीव शर्मा/बहराइच: उत्तर प्रदेश के बहराइच से एक दिल दहला देने वाली वारदात सामने आई है. आरोप है कि यहां कुछ दबंगों ने 7 महीने की प्रेग्नेंट महिला को इतनी बेरहमी से मारा कि उसके बच्चे की जान चली गई. पीड़ित के परिजनों ने अजमेर अली नाम के व्यक्ति के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है. उनका आरोप है कि अजमेर अली के गुंडों ने महिला को इतना मारा कि उसका गर्भपात हो गया.

ये भी पढ़ें: Lucknow University के बेमिसाल 100 साल: जारी होगा चार धातुओं से बना 100 का सिक्का, PM करेंगे अनावरण

क्या था मामला?
वारदात थाना मोतीपुर के ग्राम सुमई गौढी गांव की है. यहां पीड़ित के परिवार वालों ने बताया कि अजमेर अली नाम का शख्स घर के तीन बेटों को मजदूरी कराने के लिए राजस्थान ले गया था. उनसे काम करवाता था, लेकिन पैसे नहीं देता था. इस बात की शिकायत ले कर वो अजमेर अली के घर पहुंचे. परिवार ने आरोप लगाया है कि उनके मजदूरी न मिलने की शिकायत करने पर नाराज मुनव्वर, अनवर और शमशेर ने परिवार समेत महिला को इतनी बुरी तरह पीटा कि उसका बच्चा गिर गया. इस मामले में परिवार ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई. खबर मिलने पर पुलिस ने मृतक बच्चे के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया और आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी.

SC/ST एक्ट में दर्ज हुआ मामला
बहराइच एसपी विपिन मिश्रा ने बताया कि पीड़ित परिवार की तरफ से उन्हें तहरीर मिली थी कि अजमेर अली से पगार के पैसे मांगने गए बेटों और महिला की पिटाई की गई है. आरोप ये भी है कि अजमेर पीड़ित महिला के गर्भपात का जिम्मेदार है. पीड़ितों की शिकायत पर थाना मोतीपुर में पुलिस ने एससी/एसटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है और मामले की जांच शुरू कर दी है.

WATCH LIVE TV