UP की बस पॉलिटिक्स में उतरीं मायावती, कांग्रेस की सियासी चाल पर भड़कीं

मायावती ने लिखा है कि, 'कांग्रेसी राजस्थान सरकार एक तरफ कोटा से यूपी के छात्रों को अपनी कुछ बसों से वापस भेजने के लिए मनमाना किराया वसूल रही है तो दूसरी तरफ अब प्रवासी मजदूरों को यूपी में उनके घर भेजने के लिए बसों की बात करके जो राजनीतिक खेल खेल रही है, ये कितना उचित और कितना मानवीय है?'

UP की बस पॉलिटिक्स में उतरीं मायावती, कांग्रेस की सियासी चाल पर भड़कीं
फाइल फोटो

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में चल रही बस पॉलिटिक्स में अब BSP नेता मायावती भी उतर आई हैं. उन्होंने कांग्रेस की सियासत पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया है कि राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने कोटा से छात्रों की घर वापसी पर हुए खर्च के तौर पर यूपी सरकार को जो बिल भेजा है वो उसकी कंगाली और अमानवीयता को दर्शाने वाला है.

दोहरी राजनीति कर रही है कांग्रेस 
बहुजन समाजवादी पार्टी की नेता मायावती ने ट्वीट के जरिये कहा है कि दो पड़ोसी राज्यों के बीच हो रही ऐसी घिनौनी राजनीति अति-दुखद है. उन्होंने लिखा है, 'राजस्थान की कांग्रेसी सरकार द्वारा कोटा से करीब 12000 युवा-युवतियों को वापस उनके घर भेजने पर हुए खर्च के रूप में यूपी सरकार से 36.36 लाख रुपए और देने की जो मांग की है, वो उसकी कंगाली और अमानवीयता को प्रदर्शित करता है.'
मायावती ने आगे लिखा है कि, 'कांग्रेसी राजस्थान सरकार एक तरफ कोटा से यूपी के छात्रों को अपनी कुछ बसों से वापस भेजने के लिए मनमाना किराया वसूल रही है तो दूसरी तरफ अब प्रवासी मजदूरों को यूपी में उनके घर भेजने के लिए बसों की बात करके जो राजनीतिक खेल खेल रही है, ये कितना उचित और कितना मानवीय?'

इसे भी पढ़िए : कोरोना काल में ताजनगरी से आई उम्मीद की किरण, COVID-19 को हराने का फॉर्मूला मिला

'अम्फान' तूफान से तबाही पर जताया दुख 
मायावती ने अपने ट्वीट में ’अम्फान’ तूफान से पश्चिम बंगाल में हुई व्यापक तबाही और बर्बादी पर भी दुख जताया है. उन्होंने लिखा है कि केंद्र सरकार को आगे बढ़कर हर प्रकार से राज्य को वहां के हालात सामान्य करने में मदद करनी चाहिए.