वाराणसी: CAA Protest में मां-बाप गए जेल, डेढ़ साल की मासूम का रो रोकर बुरा हाल

बच्ची की देखभाल फिलहाल, उसकी बड़ी मम्मी और दादी कर रहे हैं. परिजनों ने प्रशासन से गुहार लगाई है कि छोटी बच्ची के खातिर माता-पिता को रिहा कर दिया जाए.  

वाराणसी: CAA Protest में मां-बाप गए जेल, डेढ़ साल की मासूम का रो रोकर बुरा हाल
बच्ची आज अपने मां-पिता की फोटो को देख कर उन्हें अपनी आवाज में बुला रही है.

नवीन पांडेय/वाराणसी: बीते 19 दिसंबर को वाराणसी में CAA और NRC के विरोध में हुए प्रदर्शन के दौरान गिरफ्तार किए गए एक परिवार की दिक्कतें बढ़ गई हैं. पति-पत्नी जेल में हैं वहीं उनके एक साल 3 महीने के बच्चे का रो रोकर बुरा हाल है.

दरअसल, वाराणसी में हुए CAA और NRC के खिलाफ प्रदर्शन में मुस्लिम समाज के साथ सिविल सोसायटी, एनजीओ, बीएचयू के छात्रों के साथ-साथ आम आदमी पार्टी और दूसरे राजनितिक दल के लोग मौजूद थे.

प्रदर्शन में बाद पुलिस ने भीड़ को तितर बितर करने के लिये बल का प्रयोग किया और 73 लोगों को हिरासत में लिया. जिनमें से 10 लोगों को बाद में छोड़ दिया गया. लेकिन जो 63 लोग जेल भेजे गए, उन्हें कई धाराओं में निरुद्ध किया गया. इन्हीं गिरफ्तार लोगों में एयर फॉर केयर संस्था के लिये काम करने वाले रवि शेखर और उनकी पत्नी एकता शेखर भी हैं. जिनकी एक 1 साल 3 महीने की बच्ची है.

बच्ची की देखभाल फिलहाल, उसकी बड़ी मम्मी और दादी कर रहे हैं. परिजनों ने प्रशासन से गुहार लगाई है कि छोटी बच्ची के खातिर माता-पिता को रिहा कर दिया जाए.

हमेशा अपनी मां के साथ रहने वाली बच्ची आज अपने मां-पिता की फोटो को देख कर उन्हें अपनी आवाज में बुला रही है. बच्ची की दादी का कहना है कि उनका बेटा और बहू बेनियाबाग अपने काम से संबंधित मीटिंग के लिए गए थे. लेकिन इन लोगों को बिना मतलब गिरफ्तार कर लिया गया. 3 दिनों तक हमने दोनों के बारे में पूछा भी, लेकिन कुछ पता नहीं चला. जिसके बाद हमें चौथे दिन पता चला कि बच्चे अरेस्ट्स हो चुके हैं.

मासूम की दादी ने बताया कि छोटी सी बच्ची की हालत बहुत खराब हो चुकी है. ये हर वक्त अपनी मां को खोजती रहती है. बच्ची रात को सो नहीं पाती. दादी ने कहा कि सरकार से बस यही कहना चाहती हूं कि वो इस बच्चे का दर्द समझें.