कोटेश्वर में किया जायेगा अस्थायी 150 बैड का जर्मन हैंगर का निर्माण, स्थापित हुए 40 Oxygen कंसन्ट्रेटर

कोरोना संक्रमण से बढ़ते मरीजों के उपचार में ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित किए जाने के लिए 40 नग ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर माधवाश्रम चिकित्सालय में स्थापित किये जा चुके हैं, 

कोटेश्वर में किया जायेगा अस्थायी 150 बैड का जर्मन हैंगर का निर्माण, स्थापित हुए 40 Oxygen कंसन्ट्रेटर

हरेंद्र नेगी/रुद्रप्रयाग:  कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर रुद्रप्रयाग जिला (Rudra prayag District) प्रशासन सतर्क है. मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए प्रशासन ने कड़े कदम उठाए हैं. इसके लिए कोटेश्वर स्थित माधवाश्रम अस्पताल में 150 बैड का अस्थायी जर्मन हैंगर से निर्मित अस्पताल का निर्माण किया जायेगा. इसके लिए जिलाधिकारी ने नोडल अधिकारियों को निर्देश दे दिए हैं. 

बच्चों के लिए जल्दी आएगी कोरोना वैक्सीन, 'Covaxin' के फेज 2/3 ट्रायल को मंजूरी

40 नग ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर माधवाश्रम चिकित्सालय में स्थापित
कोरोना संक्रमण से बढ़ते मरीजों के उपचार में ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित किए जाने के लिए 40 नग ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर माधवाश्रम चिकित्सालय में स्थापित किये जा चुके हैं, जिससे ऑक्सीजन की आवश्यकता मरीजों को सुनिश्चित करायी जा सके तथा उनका जीवन बचाया जा सके.

पिछले साल भी किया गया था अस्पताल का निर्माण
बता दें कि पिछले साल भी कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए कोटेश्वर स्थित माधवाश्रम अस्पताल में अस्थायी जर्मन हैंगर से निर्मित अस्पताल का निर्माण किया गया था, जिससे मरीजों को काफी राहत मिली थी. ऐसे में इस बार भी कोटेश्वर अस्पताल की जमीन पर जर्मन हैंगर का निर्माण किया जा रहा है.

कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लेने में हो गई देरी, तो क्या पहली हो गई बेकार, जानें यहां

माधवाश्रम की कैन्टीन शुरू करने के निर्देश
जिलाधिकारी मनुज गोयल ने नोडल अधिकारी खाद्यान्न को सुबह, दोपहर तथा रात्रि भोजन की व्यवस्था के लिए माधवाश्रम की कैन्टीन सुचारू करने के निर्देश दिए. भोजन के संबंध में आ रही शिकायतों का भी तत्काल समाधान करने के निर्देश दिए गए हैं. इसके साथ ही मरीजों को फल, दूध इत्यादि पौष्टिक आहार उपलब्ध कराने के लिए भी कहा गया है.

डीएम ने कहा कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए इसके लिए सतर्कता बरतने के जरूरत है. इसलिए जरूरी है कि कोरोना वायरस से सम्बन्धित लक्षण यदि किसी भी व्यक्ति में पाये जाते हैं तो उसे प्राथमिकता के आधार पर आइसोलेशन वार्ड में रखा जाए. 

प्रयागराज: 2022-23 सत्र से MBBS में दाखिला लेने वाले छात्रों को करनी होगी इमर्जेंसी मेडिसिन की पढ़ाई

WATCH LIVE TV