close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दलित उत्पीड़न के खिलाफ हरीश रावत ने उपवास कर किया भजन कीर्तन

दलित अत्याचार के विरोध में हरीश रावत कर रहे उपवास और मौन व्रत. आबंडेकर जयंती पर मौन व्रत रखकर उनको देंगे श्रद्धांजलि.  

दलित उत्पीड़न के खिलाफ हरीश रावत ने उपवास कर किया भजन कीर्तन
हल्दवानी में व्रत के दौरान भजन कीर्तन करते हरीश रावत. (फोटो- @Harish Rawat/Twitter)

देहरादून: आगामी लोकसभा चुनाव में दलितों को अपने पाले में करने के लिए तमाम राजनीतिक पार्टियां अलग-अलग हथकंडे अपना रही है. हर किसी की नजर दलित वोटरों पर है. इसी क्रम में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने शुक्रवार को हल्दवानी में दलित उत्पीड़न के विरोध में भजन-कीर्तन कर आधे दिन का उपवास किया. हरीश रावत ने आरोप लगाया कि पिछले 4 सालों के भीतर देश के अनेक हिस्सो में दलितों के प्रति अत्याचार की घटनाओं में काफी वृद्धि हुई है. उन्होंने कहा कि ये हालात चिंताजनक हैं. केंद्र सरकार को निशाने पर लेते हुए हरीश रावत ने कहा कि दलित उत्पीड़न को लेकर केंद्र सरकार को जो कदम उठाने चाहिए थे, उसमें सरकार बुरी तरह से नाकामयाब साबित हुई है. उन्होंने सरकार पर समाज को बांटने का आरोप लगाया.

1 घंटे का रखा था मौन व्रत
उपवास कार्यक्रम को लेकर हरीश रावत ने कहा कि देश मे सौहार्द का माहौल हो, सामाजिक सद्भावनाएं बनी रहे, लोकतंत्र बचा रहे इसके लिए कांग्रेस जगह-जगह उपवास और भजन कीर्तन का कार्यक्रम कर रही है. बीजेपी पर चुटकी लेते हुए हरीश रावत ने कहा कि कांग्रेस के उपवास की वजह से बीजेपी को सदबुद्धि आ रही है. शुक्रवार को मौन व्रत तोड़ने के बाद हरीश रावत ने एक दलित परिवार के साथ बैठकर खाना भी खाया. इससे पहले गुरुवार को पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने हरिद्वार के जियापोता गांव में दलितों पर हो रहे अत्याचार को लेकर 1 घंटे का मौन व्रत रखा था. इस दौरान भारी संख्या में कांग्रेसी कार्यकर्ता मौजूद रहे. पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत का कहना है कि दलित उत्पीड़न की घटनाएं तेजी से बढ़ रही हैं जो की चिंता का विषय है. हरीश रावत ने कहा कि 14 अप्रैल को भीमराव आंबेडकर की जयंती पर वे मौन व्रत रखकर उनको श्रद्धांजलि देंगे.

 

 

महिला अपराध पर लगाम लगाना बहुत जरूरी
उन्नाव और कठुआ में महिला और मासूम के साथ रेप की वारदात को लेकर हरीश रावत ने कहा कि जिस तरीके से देश में बच्चियों और महिलाओं के साथ अपराध की घटनाएं बढ़ रही हैं वह चिंता का विषय है. उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाओं पर राजनीति नहीं होनी चाहिए, लिहाजा पूरे देश को एकजुट होने की जरूरत है.

 

 

त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शुरू की समरता अभियान
दूसरी तरफ शुक्रवार से बीजेपी ने समरता अभियान की शुरुआत की है. इस कार्यक्रम का आयोजन देहरादून के मोहनी रोड पर किया गया है. खुद सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस कार्यक्रम की शुरुआत की. यह अभियान पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा 6 दिसंबर, 2018 तक चलेगा. समरता अभियान के तहत पार्टी के कार्यकर्ता दलितों को खाना खिलाएंगे. कार्यक्रम के शुरू होने पर देहरादून में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत की मौजूदगी में सैकड़ों दलितों को खाना खिलाया गया. इस कार्यक्रम को आंबेडकर की जयंती से ठीक एक दिन पहले शुरू किया गया है.कार्यक्रम का आगाज करने के बाद अपने संबोधन में त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस खुद को दलितों का हितैषी बताती है, लेकिन अब तक उनके लिए क्या किया गया है, वे अपने अंदर झांककर देखें? रावत ने कहा कि बीजेपी की स्थापना ही समरता के लिए हुई है. बीजेपी हमेशा दलितों के उत्थान के लिए काम करती है.