कानपुर के DM ने नारियल फोड़कर रवाना की गोविंदपुरी स्टेशन से बिहार के लिए स्पेशल ट्रेन

श्रमिकों को उनके गृहजनपद तक सुरक्षित पहुंचाने के लिए कानपुर से एक स्पेशल ट्रेन बिहार के लिए गुरुवार रात रवाना की गई. कानपुर के डीएम ब्रह्मदेव तिवारी खुद इस मौके पर मौजूद रहे. उन्होंने स्टेशन पर नारियल फोड़कर इस स्पेशल ट्रेन की शुरुआत की.

कानपुर के DM ने नारियल फोड़कर रवाना की गोविंदपुरी स्टेशन से बिहार के लिए स्पेशल ट्रेन
यात्रियों को पानी और खाना देते जिलाधिकारी

कानपुर: श्रमिकों को उनके गृहजनपद तक सुरक्षित पहुंचाने के लिए कानपुर से एक स्पेशल ट्रेन बिहार के लिए गुरुवार रात रवाना की गई. कानपुर के डीएम ब्रह्मदेव तिवारी खुद इस मौके पर मौजूद रहे. उन्होंने स्टेशन पर नारियल फोड़कर इस स्पेशल ट्रेन की शुरुआत की. रेलवे के अधिकारियों के साथ डीआईजी और अन्य प्रशासनिक अफसर भी स्टेशन पर उपस्थित रहे.

महिला रेलवे स्टेशन है गोविंदपुरी 
गोविंदपुरी स्टेशन कानपुर का महिला रेलवे स्टेशन है. यहां ट्रेन संचालन से जुड़ी हुई सभी जिम्मेदारियां महिलाएं ही निभाती हैं. गोविंदपुरी से बनकर चलने वाली ये इतिहास की पहली सवारी गाड़ी है, जिसे डीएम ने प्रवासी मजदूरों को बिठाकर रवाना किया. ट्रेन ने कानपुर शहर में फंसे करीब 1600 श्रमिकों को बिना किसी किराये के भेजा गया है. 

इसे भी पढ़ें: UP में बीते 24 घंटे में सामने आए Corona के 341 केस, संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर हुआ 5515

COVID-19 प्रोटोकॉल का रखा गया ध्यान
कानपुर सेंट्रल रेलवे स्टेशन के डायरेक्टर ने बताया कि कोरोना वायरस के मद्देनजर सभी प्रोटोकॉल का पालन किया गया है. ट्रेन के सेनिटाइजेशन से लेकर यात्रियों की सुविधा के लिए उन्हें पानी बोतल और लंच पैकेट भी दिया गया. ट्रेन में उन्हें बिठाते वक्त खास तौर पर सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखा गया. डीएम ब्रह्मदत्त तिवारी ने बताया कि राज्य सरकार की ओर से सभी प्रवासी मजदूरों के लिए ये व्यवस्था कराई गई है. पहले तो उन्हें बसों के जरिये स्टेशन तक लाया गया और यहां से उन्हें बिहार भेजा जा रहा है. कामगारों का कहना है कि काम बंद होने के चलते वे अपने घरों को वापस जा रहे हैं और हालात सामान्य होने पर वापस यहां लौटेंगे.

WATCH LIVE TV