2 जुलाई की खूनी रात से शिवली के डॉन के खात्मे तक, विकास दुबे की पूरी कहानी यहां पढ़ें

आइए जानते हैं कानपुर शूटआउट में 2 जुलाई से लेकर विकास दुबे की गिरफ्तारी वाले दिन यानी 9 जुलाई तक के बीच का पूरा घटनाक्रम...?

2 जुलाई की खूनी रात से शिवली के डॉन के खात्मे तक, विकास दुबे की पूरी कहानी यहां पढ़ें
गैंगस्टर विकार दुबे उज्जैन महाकाल मंदिर से गिरफ्तार.

लखनऊ: कानपुर के बिकरू गांव में बीते दो जुलाई की रात गैंगस्टर विकास दुबे को गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस टीम पर गोलीबारी कर दी गई. गैंगस्टर विकास दुबे और उसके साथियों द्वारा की गई इस गोलीबारी में बिल्हौर सीओ देवेंद्र मिश्र समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए. जबकि, 7 अन्य पुलिसकर्मी घायल हुए थे.

इस जघन्य वारदात को अंजाम देने के बाद से ही गैंगस्टर विकास दुबे फरार चल रहा था. यूपी एसटीएफ और पुलिस की टीमें उसकी तलाश में लगातार दबिश दे रही थीं. विकास दुबे उत्तर प्रदेश से निकलकर दिल्ली, हरियाणा के बाद मध्य प्रदेश के उज्जैन स्थित महाकालेश्वर मंदिर पहुंच गया.

विकास के सिर पांच लाख का इनाम घोषित किया गया था. गुरुवार सुबह उसे उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार कर लिया गया. आइए जानते हैं कानपुर शूटआउट में 2 जुलाई से लेकर विकास दुबे की गिरफ्तारी वाले दिन यानी 9 जुलाई तक के बीच का पूरा घटनाक्रम...?

Akhilesh Yadav के बाद Priyanka Gandhi ने भी Vikas Dubey प्रकरण पर कहा, 'फेल हुई सरकार'

2 जुलाई: विकास दुबे को गिरफ्तार करने के लिए 3 थानों की पुलिस ने कानपुर के बिकरू गांव में दबिश दी. विकास दुबों ने अपने गुर्गों के साथ मिलकर पुलिस टीम पर गोलीबारी कर 8 पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी. विकास दुबे और उसके साथ घटना को अंजाम देने के बाद फरार हो गए.

3 जुलाई: विकास दुबे के मामा प्रेम प्रकाश पांडे और उसका गुर्गा अतुल दुबे पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए. साथ ही पुलिस ने कानपुर शूटआउट केस में 20-22 नामजद समेत 60 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर विकास दुबे और उसके गुर्गों की तलाश शुरू की गई. यूपी एसटीएफ भी काम में जुट गई. विकास दुबे पर 50 हजार का इनाम घोषित हुआ.

4 जुलाई: एसएसपी, एडीजी लॉ एंड ऑर्डर के साथ अन्य पुलिस अधिकारी घटनास्थल बिकरू गांव पहुंचे. गैंगस्टर विकास दुबे के घर की दीवारों में असलहे, मकान के अंदर तहखाने की पुष्टि हुई. विकास दुबे के बिकरू गांव स्थित मकान को गिरा दिया गया. उसके घर से विस्फोटक और बंदूकों के साथ कई अन्य असलहे बरामद हुए. विकास दुबे पर घोषित इनाम की राशि 50 हजार से बढ़ाकर 1 लाख कर दी गई.

5 जुलाई: विकास दुबे का साथ देने के आरोप में तत्कालीन चौबेपुर थाना प्रभारी विनय तिवारी एसटीएफ की जांच के दायरे में आए. विनय तिवारी को निलंबित कर दिया गया और पूछताछ के लिए एसटीएफ उन्हें अपने साथ ले गई. शहीद सीओ देवेंद्र मिश्रा का विनय तिवारी के खिलाफ तत्कालीन एसएसपी अनंत देव तिवारी को लिखा गया शिकायती पत्र वायरल हुआ. विकास दुबे पर घोषित इनाम 1 लाख से बढ़ाकर 2.5 कर दिया गया.

Vikas Dubey Arrest: गैंगस्टर की गिरफ्तारी के बाद गरमाई राजनीति, अखिलेश ने पूछा, 'आत्मसमर्पण या गिरफ्तारी?'

6 जुलाई: पुलिस ने विकास दुबे के नौकर और खास सहयोगी दयाशंकर उर्फ कल्लू अग्निहोत्री को घेर लिया. पुलिस की गोली लगने से दयाशंकर जख्मी हो गया. उसने खुलासा किया कि विकास दुबे ने पहले से प्लानिंग कर पुलिसकर्मियों पर हमले को अंजाम दिया था. विकास पर घोषित इनाम 2.5 लाख से बढ़ाकर 5 लाख कर दिया गया. इस बीच विकास दुबे को हरियाणा के फरीदाबाद में स्पॉट किया गया.

7 जुलाई: पुलिस ने विकास दुबे के राइट हैंड अमर दुबे की मां क्षमा दुबे और दयाशंकर की पत्नी रेखा समेत 3 को गिरफ्तार किया. शूटआउट के वक्त पुलिस ने बदमाशों से बचने के लिए क्षमा दुबे का दरवाजा खटखटाया था, लेकिन क्षमा ने मदद करने की बजाय बदमाशों को पुलिस की लोकेशन बता दी थी. रेखा भी बदमाशों की मदद कर रही थीं.

8 जुलाई: चौबेपुर थाने के एसओ रहे विनय तिवारी और दरोगा केके शर्मा को गिरफ्तार कर लिया गया. एसटीएफ ने विकास दुबे के करीबी अमर दुबे को एनकाउंटर में मार गिराया. शहीद सीओ देवेंद्र मिश्रा के वायरल पत्र की जांच की जिम्मेदारी लखनऊ रेंज की आईजी लक्ष्मी सिंह को सौंपी गई. विकास दुबे की गिरफ्तारी के लिए यूपी एसटीएफ ने हरियाणा और मध्य प्रदेश पुलिस से संपर्क साधा.

9 जुलाई: यूपी एसटीएफ ने कानपुर में विकास दुबे के एक अन्य गुर्गे प्रभात मिश्रा उर्फ कार्तिकेय को एंकाउंटर में ढेर किया. इटावा के बकेवर में विकास का एक अन्य सहयोगी रणवीर उर्फ बउअन पुलिस एनकाउंटर में मारा गया. मध्य प्रदेश के उज्जैन स्थित महाकाल मंदिर से गैंगस्टर विकास दुबे गिरफ्तार किया गया. विकास दुबे महाकाल के दर्शन करने उज्जैन पहुंचा था.

WATCH LIVE TV