गौतमबुद्ध नगर में DM ने होम आइसोलेशन को दी मंजूरी, दवाई के खर्च को लेकर दी सफाई

रैपिड रिस्पांस टीम ही तय करेगी कि क्या मरीज को होम आइसोलेशन में रखा जा सकता है या फिर मरीज को अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत है.

गौतमबुद्ध नगर में DM ने होम आइसोलेशन को दी मंजूरी, दवाई के खर्च को लेकर दी सफाई
फाइल फोटो

गौतमबुद्ध नगर: दिल्ली की तरह अब गौतमबुद्ध नगर में भी कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए होम आइसोलेशन पर जोर दिया जा रहा है. गौतमबुद्ध नगर के जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने शुक्रवार से जिले में कोरोना पीड़ितों के लिए होम आइसोलेशन के लिए अनुमति दे दी है.

उन्होंने बताया कि मरीजों को किसी तरह की परेशानी न हो इसके लिए जिले में 20 रैपिड रिस्पांस टीम बनाई गई हैं जो लगातार मरीजों के संपर्क में रहेंगी. रैपिड रिस्पांस टीम ही तय करेगी कि क्या मरीज को होम आइसोलेशन में रखा जा सकता है या फिर मरीज को अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत है.

ये भी पढ़ें: UP सरकार के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह COVID-19 पॉजिटिव, फिलहाल होम आइसोलेशन में

दवाइयों के खर्च पर DM ने दी सफाई
जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने होम आइसोलेशन को लेकर लोगों के बीच फैली अफवाहों पर भी सफाई दी. उन्होंने कहा कि होम आइसोलेशन पर अगर कुछ लोगों के पास यह जानकारी है की सारा खर्च मरीज को खुद उठाना पड़ेगा तो यह पूरी तरह झूठ है. जिलाधिकारी ने बताया, दवाई स्वास्थ्य विभाग की तरफ से मरीजों को दी जाएगी. हालांकि, ऑक्सीपल्स मीटर का खर्च मरीज को खुद उठाना पड़ेगा. ऑक्सीपल्स मीटर से मरीज अपने ऑक्सीजन लेवल की जांच कर सकते हैं.

जिला प्रशासन ने होम आइसोलेशन सेल का गठन भी किया है, जिसमें जिम्स और स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टर शामिल हैं. होम आइसोलेशन सेल के लोग लगातार मरीजों के संपर्क में रहेंगे. डीएम सुहास एलवाई ने एक और अहम जानकारी देते हुए बताया कि गौतमबुद्ध नगर में जल्द ही एक कोविड 19 अस्पताल बनकर तैयार होने वाला है जिससे गौतमबुद्ध नगर वासियों को काफी फायदा मिलेगा.

गौतमबुद्ध नगर में अब तक 4466 लोग कोरोना की चपेट में आ चुके हैं. वहीं, जिले में अब तक 40 लोग कोरोना से अपनी जान भी गवां चुके हैं.

(सम्पादन: लोकेंद्र त्यागी)

WATCH LIVE TV: