close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'पाकिस्तान वाली गली' के लोगों ने लिखी पीएम मोदी को चिट्ठी,'कॉलोनी का नाम बदल दीजिए'

इस कालोनी के निवासी कहते हैं कि उन्हें दशकों बाद भी 'पाकिस्तान वाली गली' वाला कहलाना बिल्कुल पसंद नहीं है.

'पाकिस्तान वाली गली' के लोगों ने लिखी पीएम मोदी को चिट्ठी,'कॉलोनी का नाम बदल दीजिए'
इस कालोनी में रह रहे लोगों का सबसे बड़ा दर्द यही है कि उन्हें 'पाकिस्तान वाली गली' के बाशिंदों के तौर पर जाना जाता है. (फोटो साभार -IANS)

नोएडा: ग्रेटर नोएडा की एक कालोनी इन दिनों खासी सुर्खियों में है. इस कालोनी को लोग 'पाकिस्तान वाली गली' के नाम से पुकारते हैं. कॉलोनी में रहने वाले लोगों ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक पत्र लिखकर अपनी कॉलोनी का नाम बदलने की गुहार लगाई है. 

यहां पर रह रहे लोगों का सबसे बड़ा दर्द यही है कि उन्हें  'पाकिस्तान वाली गली' के बाशिंदों के तौर पर जाना जाता है. यहां के निवासी कहते हैं कि उन्हें दशकों बाद भी 'पाकिस्तान वाली गली' वाला कहलाना बिल्कुल पसंद नहीं है, लेकिन जुबानी गुजारिश करने के बावजूद लोग हमें 'पाकिस्तान वाली गली' वाला कहकर ही बुलाते हैं.

दादरी के गौतमपुरी के इस वार्ड नंबर 2 में करीब 70 परिवार रहते है. लोगो के मुताबिक वे हिंदू हैं. और आसपास के लोग उन्हें पाकिस्तान वाली गली के नाम से बुलाते आ रहे हैं. अपना दर्द बयां करते हुए लोगों ने बताया कि उनके बच्चों को स्कूल में दाखिले में भी काफी दिक्कतें आती हैं. उन्होंने बताया कि लड़कियों की शादी तक मे 'पाकिस्तान की गली' का जिक्र आते ही रिश्ता तक होने में दिक्कत होती है. 

सरकारी कागजों में दर्ज नहीं है  'पाकिस्तान वाली गली'
मीडिया की सुर्खियां बना 'पाकिस्तान वाली गली' नाम का मोहल्ला सरकारी कागजों में कहीं दर्ज नही है. पिछले 70 सालों से यहां रह रहे लोग भले इस बात का दंश आज तक झेल रहे हों लेकिन अगर सरकारी कागजों की बात करे और वोटर लिस्ट की बात करे तो कहीं भी पाकिस्तान की गली का नाम दर्ज नही है. और न ही यह मामला किसी अधिकारी के संज्ञान में है. अगर बात करे आधार कार्ड की तो बस उसी में 'पाकिस्तान वाली गली' दर्ज है. 

इस मामले में दादरी नगर पालिका की चेयरमैन गीता पंडित ने कहा कि न कभी उनके पास इस बात की कोई शिकायत आई न ही कभी यह मामला सामने आया. उन्होंने  बताया है कि अगर कहीं ऐसा नाम दर्ज होता तो हम उसे जरूर हटाते. लेकिन कहीं ऐसा नाम दर्ज न होने से हम कुछ नही कर सकते है.