कानपुर में बिना गार्ड के दौड़ी मालगाड़ी, लोको पायलट और कंट्रोल रूम को मिली पल-पल की अपडेट

इस ट्रेन में गार्ड की जगह एक डिवाइस लगाई गई. इस डिवाइस ने वह सभी काम किए जो एक गार्ड करता है. यह डिवाइस सभी तकनीकी जानकारी ट्रेन के ड्राइवर और रेलवे परिचालन केंद्र तक दे रही थी. जूही यार्ड से चली गई यह मालगाड़ी अपने निर्धारित समय पर टूंडला पहुंच गई. 

कानपुर में  बिना गार्ड के दौड़ी मालगाड़ी, लोको पायलट और कंट्रोल रूम को मिली पल-पल की अपडेट

कानुपर: उत्तर प्रदेश के कानपुर में बिना गार्ड के मालगाड़ी चलाने की योजना रफ्तार पकड़ने लगी है. रेलवे अब लगातार हाइटेक हो रहा है. एक मालगाड़ी रविवार को जूही यार्ड से टूंडला के लिए रवाना की गई. इस ट्रेन में गार्ड की जगह एक डिवाइस ईओटीटी (इंड ऑफ ट्रेन टेलीमेट्री) लगाई गई जो एक गार्ड के द्वारा दी जाने वाली सभी टेक्नीकल जानकारी ट्रेन के ड्राइवर और रेलवे परिचालन केंद्र तक दे रही थी. कानपुर जूही यार्ड से से निकलकर यह मालगाड़ी अपने निर्धारित समय पर टूंडला पहुंच गई.

आपको भी मिल सकता पद्म अवॉर्ड, जानिए कैसे कर सकते हैं ऑनलाइन अप्लाई!

गार्ड की जगह लगाई गई एक डिवाइस 
इस ट्रेन में गार्ड की जगह एक डिवाइस लगाई गई. इस डिवाइस ने वह सभी काम किए जो एक गार्ड करता है. यह डिवाइस सभी तकनीकी जानकारी ट्रेन के ड्राइवर और रेलवे परिचालन केंद्र तक दे रही थी. जूही यार्ड से चली गई यह मालगाड़ी अपने निर्धारित समय पर टूंडला पहुंच गई. 

पहले चरण में होगा मालगाड़ियों में गार्ड रहित ट्रेनों को चलाए जाने के लिए परीक्षण 
अब रेलवे पहले चरण में मालगाड़ियों में गार्ड रहित ट्रेनों को चलाए जाने के लिए परीक्षण करेगा. जिसके बाद इस व्यवस्था को स्थाई रूप से लागू किया जाएगा. भारतीय रेल ने परिचालन को अत्याधुनिक करने की दिशा में एक नया उपकरण ई.ओ.टी.टी. जिसको मालगाड़ी में लगाया. ई.ओ.टी.टी उपकरण को बनारस रेल इंजन कारखाना और आर॰डी॰एस॰ओ॰ ,लखनऊ द्वारा विकसित किया गया. 

नई नवेली दुल्हन ने ननद के साथ '52 गज का दामन’ गाने पर लगाए जबरदस्त ठुमके, आप भी देखिए वीडियो

हाइटेक मानवरहित और वायरलेस तकनीक युक्त

यह उपकरण हाइटेक मानवरहित और वायरलेस तकनीक युक्त है. इस उपकरण के दो हिस्से होते हैं एक हिस्से को कैब यूनिट(सी.यू.) कहते हैं. इसको लोकोमोटिव के भीतर कैब में लोको पायलट के पास तथा दूसरा हिस्सा जिसको रियर यूनिट (आर.यू.) कहते हैं, उसे आखरी कोच में लगाई जाता है. यह दोनों यूनिट आपस में रेडियो वायरलेस तकनीक के द्वारा लिंक रहते हैं जिससे गार्ड द्वारा संचालित सारे कार्यों का लेखा-जोखा ड्राइवर तथा परिचालन केंद्र को लगातार प्राप्त होता रहता है.

किफायती और विश्वसनीय तकनीक
यह तकनीक किफायती और विश्वसनीय है. सफलतापूर्वक परीक्षण के उपरांत इस तकनीक का प्रयोग मालगाड़ियों के परिचालन में किया जाएगा. माल गाड़ियों के बाद इस तकनीक का इस्तेमाल सवारी गाड़ियों में भी किया जाएगा.

बारात लेकर ससुराल पहुंचे दूल्हे के स्वागत में दुल्हन ने की ये हरकत, यूजर्स बोले-'शादी है या युद्ध’

WATCH LIVE TV