अब 'जागते रहो', 'जागते रहो' कहेगी UP पुलिस, रात में डायल 100 में बजेगा सायरन

लखनऊ पुलिस ने पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर इसे शुरू किया है और 'जागते रहो' सायरन से पूरे क्षेत्र में लोगों को जागरूक किया जा रहा है.

अब 'जागते रहो', 'जागते रहो' कहेगी UP पुलिस, रात में डायल 100 में बजेगा सायरन
पुलिस लगातार लोगों के मन में अच्छी छवि बनाने की कोशिश कर रही हैं.

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में अब सड़क पर चौकीदार नहीं बल्कि पुलिस लोगों को 'जागते रहो' कहती नजर आएगी. अपराधियों में भय और आम जनता में सुरक्षा का एहसास दिलाने के लिए यूपी पुलिस अब रात में गश्त के दौरान 'जागते रहो' का सायरन बजेएगा. इस पहल को ट्रायल के तौर पर अभी लखनऊ के हजरतगंज क्षेत्र में लागू किया गया है. सफल होने पर पूरे शहर में इसे लागू किया जाएगा. 

फिलहाल शुरुआती दिनों में लखनऊ की '100 डायल' की गाड़ियों में रात में 'जागते रहो' का सायरन बजेगा और फिर जल्द ही प्रदेश भर में इसे लागू किया जाएगा. इस मामले पर जानकारी देते हुए एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ट्रायल के रूप में हजरतगंज सर्किल की सभी गाड़ियों पर 'जागते रहो' के सायरन लग गए हैं. लखनऊ पुलिस ने पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर इसे शुरू किया है और 'जागते रहो' सायरन से पूरे क्षेत्र में लोगों को जागरूक किया जा रहा है. यूपी पुलिस का मानना है कि नए सायरन की पहल से अपराध पर कुछ लगाम जरूर लगेगी.

प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने कहा कि हमने अपराध के ग्राफ को बहुत हद तक नियंत्रित किया है. हम लोगों के मन में पुलिस बल की अच्छी छवि बनाने की कोशिश कर रहे हैं और नई पहल कर रहे हैं, यह उनमें से एक है.

योगी सरकार की तमाम सख्ती के बावजूद उत्तर प्रदेश में खासकर महिलाओं और बच्चियों के साथ अपराध का ग्राफ बढ़ता जा रहा है. इसी क्रम में पुलिस इस प्रोजेक्ट को शुरू कर रही है. आम लोगों का कहना है कि यह एक अच्छी मुहिम है. सायरन से भ्रम पैदा होता है. क्योंकि लोगों ने अब मोटर साइकिलों में भी इस तरह के हूटर लगा लिए हैं. इस तरह से कुछ अलग करने से लोग चौकन्ने रहेगें.