उत्‍तर प्रदेश के गांव में 'हज्जाम' नहीं काटे रहे दलितों के बाल
topStorieshindi

उत्‍तर प्रदेश के गांव में 'हज्जाम' नहीं काटे रहे दलितों के बाल

पीपलसाना गांव के दलितों ने एसएसपी मुरादाबाद को सौंपे एक पत्र में कहा है कि सलमानी समुदाय उन्हें अछूत मानता है.

उत्‍तर प्रदेश के गांव में 'हज्जाम' नहीं काटे रहे दलितों के बाल

मुरादाबाद: उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले के भोजपुर में दलितों ने प्रशासन से शिकायत की है कि मुसलमानों के सलमानी समुदाय, जिन्हें पहले 'हज्जाम' के तौर पर जाना जाता था, ने दलितों के बाल काटने और उनकी दाढ़ी बनाने से मना कर दिया है. पीपलसाना गांव के दलितों ने एसएसपी मुरादाबाद को सौंपे एक पत्र में कहा है कि सलमानी समुदाय उन्हें अछूत मानता है.

गांव के दलित राकेश कुमार ने कहा, "अस्पृश्यता को बढ़ावा देने वाली ऐसी बातें दशकों से होती आ रही हैं, लेकिन अब हमने इसके खिलाफ आवाज उठाने का फैसला कर लिया है." राकेश ने कहा कि उसके पिता और पूर्वजों को बाल कटवाने के लिए भोजपुर या शहर जाना पड़ता था, "क्योंकि सलमानी समुदाय हमें छूने से परहेज करता है."

राकेश ने आगे कहा, "समय बदल चुका है और हम इसके खिलाफ अपनी आवाज उठाएंगे." इस बीच, एसएसपी से की गई शिकायत के विरोध में सलमानी समुदाय ने शुक्रवार को अपनी दुकानें बंद रखीं. मुरादाबाद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अमित पाठक ने कहा कि उन्हें शिकायत मिली है और उन्होंने मामले की जांच के आदेश दिए हैं. उन्होंने कहा, "अगर आरोप सत्य पाए गए तो हम कठोर कदम उठाएंगे."

Trending news